Home /News /madhya-pradesh /

supreme court shocked over mp government panchayat chunav obc reservation check details mpns

एमपी सरकार पर सुप्रीम कोर्ट हैरान, जानिए पंचायत चुनाव पर क्या कहा; कल फिर होगी सुनवाई

Panchayat Chunav News: सुप्रीम कोर्ट ने एमपी सरकार से ओबीसी आरक्षण से संबंधित डाटा मांगा है. सरकार ने डाटा के लिए कोर्ट से समय मांगा था.

Panchayat Chunav News: सुप्रीम कोर्ट ने एमपी सरकार से ओबीसी आरक्षण से संबंधित डाटा मांगा है. सरकार ने डाटा के लिए कोर्ट से समय मांगा था.

MP Top News: सुप्रीम कोर्ट ने पंचायत चुनाव मामले में मध्य प्रदेश सरकार डाटा मांगा है. ये डाटा ओबीसी आरक्षण से संबंधित है. इसे लेकर मध्य प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से 25 मई तक का समय मांगा है. दूसरी ओर, सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश सरकार पर हैरानी भी जताई. क्योंकि, यहां पिछले 2 साल से 23 हजार पंचायत सीटें खाली हैं. सुप्रीम कोर्ट ने एमपी सरकार को इस बात के संकेत दिए कि अगर ओबीसी आरक्षण से संबधित डाटा पूर्ण नहीं हुआ तो यहां भी महाराष्ट्र की तर्ज पर पंचायत चुनाव करा दिए जाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

जबलपुर/नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने पंचायत चुनाव मामले में मध्य प्रदेश सरकार से ओबीसी आरक्षण से संबंधित डाटा मांगा है. मध्य प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि ओबीसी आरक्षण संबंधित डाटा 25 मई तक तैयार हो जाएगा. इसलिए सरकार को थोड़ा समय दिया जाए. सुप्रीम कोर्ट ने इस बात भी हैरानी जताई कि मध्य प्रदेश में पिछले 2 साल से 23 हजार पंचायत सीटें खाली हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने संकेत दिया कि अगर मध्य प्रदेश सरकार द्वारा दिया गया डाटा पूर्ण नहीं होगा, तो महाराष्ट्र के आधार पर यहां पंचायत चुनाव होंगे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम हैरान हैं कि बिना किसी रिप्रेजेंटेटिव के 23000  पंचायत पद मध्य प्रदेश में खाली हैं. इस पर मध्य प्रदेश सरकार ने कहा कि जल्द ही सरकार इस मामले में संबंधित डाटा एकत्र करेगी. सुप्रीम कोर्ट अब शुक्रवार को दोपहर 2 बजे मामले की सुनवाई करेगा. बता दें, एमपी में 321 नगरीय निकाय के पद भी खाली हैं.

इंदौर के शख्स ने लगाई सुप्रीम कोर्ट में याचिका

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने क्वान्टेफायबल डेटा के बिना निकाय और पंचायत चुनावों में ओबीसी आरक्षण देने पर रोक लगा रखी है. इस पर  महाराष्ट्र सरकार को बड़ा झटका लग चुका है. यहां ओबीसी के राजनैतिक पिछड़ेपन का आधार पेश न करने पर सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में आरक्षण के बिना ही निकाय चुनाव करवाने के आदेश दिए हैं. इस बीच इंदौर के सुरेश महाजन की ओर से सुप्रीम कोर्ट में एक नई याचिका दायर की गई. इसमें मध्य प्रदेश में पंचायत और निकाय चुनाव जल्द करवाने की मांग की गई.

याचिका में कही ये बात

याचिका में कहा गया है कि समय पर चुनाव करवाना निर्वाचन आयोग का संवैधानिक कर्तव्य है. प्रदेश में आरक्षण सहित परिसीमन का अधिकार राज्य सरकार की बजाय चुनाव आयोग को सौंपा जाना चाहिए. बुधवार को मामले पर सुनवाई के दौरान राज्य निर्वाचन आयोग की तरफ से कहा गया कि वो खुद समय पर चुनाव करवाना चाहता है, लेकिन इसके लिए जरूरी है कि मध्यप्रदेश सरकार पंचायतों के आरक्षण और परिसीमन कि प्रक्रिया जल्द पूरा करे. मामले पर जवाब देने के लिए राज्य सरकार ने 24 घंटों का वक्त मांगा  था.  गुरुवार को सरकार की ओर से जवाब पेश किया गया.

Tags: Jabalpur news, Mp news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर