आप भी चौंकिए: 134 बार ATM इस्तेमाल कर निकाले 92 लाख से ज्यादा, इतना शातिर है ये इंजमाम उल हक

जबलपुर में एटीएम के लुटेरे पुलिस के हाथ लगे हैं.

जबलपुर में एटीएम के लुटेरे पुलिस के हाथ लगे हैं.

आप भी चौंकिए: जबलपुर में शातिर चोर गिरफ्तार हुए. ये अभी तक 134 बार ATM इस्तेमाल कर चुके हैं. इन्होंने एटीएम से 92 लाख से ज्यादा की चोरी कर ली. एक चोर का नाम इंजमाम उल हक है.

  • Last Updated: April 17, 2021, 11:29 AM IST
  • Share this:
जबलपुर. जबलपुर पुलिस ने शुक्रवार को चौंकाने वाला खुलासा किया. पुलिस ने ATM मशीन से पैसे निकालने वाले शातिर गिरोह का भंडाफोड़ किया. ये गिरोह 2 से 12 अप्रैल के बीच सौ से ज्यादा बार एटीएम का इस्तेमाल कर 90 लाख से ज्यादा रुपए निकाल चुका है. इस मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया, जबकि एक फरार हो गया.

दरअसल, एक बैंक मैनेजर ने पुलिस थाने में शिकायत की थी कि एक्सिस बैंक के एटीएम धारकों ने एसबीआई एटीएम से पैसे निकाले. इसके बाद ये लोग धोखाधड़ी की बात कह कर रिफंड मांग रहे हैं. पुलिस की जांच में पता चला कि 2 से 12 अप्रैल के बीच लगभग 134 बार एटीएम मशीनों का उपयोग किया गया. इस दौरान 92 लाख 39 हजार रूपए निकाल लिए गए.

CCTV फुटेज से हुआ चोरी का खुलासा

पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए शहर के कई एटीएम के CCTV फुटेज तलाश किए. इसमें दो युवक एटीएम में छेड़छाड़ करते हुए दिखाई दिए. पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी के लिए जाल बिछाया. प्लान के मुताबिक, दोनों आरोपियों को शुक्रवार की दोपहर करमचंद चौक स्थित एटीएम के पास से हिरासत में ले लिया गया. दोनों ने अपना नाम शाकिर हुसैन और इंजमाम उल हक बताया.
जबरदस्त शातिर हैं आरोपी, चुन-चुन कर मशीनों को बनाते थे निशाना

दोनों के बैग की तलाशी लेने पर उसमें विभिन्न बैंकों के 86 एटीएम, 3 पैन कार्ड, 3 आधार कार्ड, 1 चेक बुक और 11 हजार 500 रुपए कैश मिले. पूछताछ में युवकों ने बताया कि उन्होंने अपने तीन अन्य साथियों मोहम्मद हुसैन, अजहरुद्दीन एवं शमीम के साथ  मिलकर एटीएम से पैसे निकाल थे. इनके लिए पहले वे पूरी प्रोसेस करते थे, फिर पैसा बाहर आ जाने के बाद मशीन में ही पैसे रोककर रखते थे. दूसरा लड़का एटीएम के पीछे लगा स्विच बन्द कर देता था. इससे थोड़ी देर बात एटीएम ट्रांसेक्शन फेल बता देता. इसके बाद ये आरोपी पैसे खींचकर निकाल लेते थे. इसके लिए बाकायदा ऐसी मशीन चुनते थे जिसमें स्विच वाला दरवाजा खुला रहता था.

जिनसे एटीएम कार्ड लिए, उनको दस हजार देने की कही बात



इसके बाद ये शातिर बैंक के कस्टमरकेअर पर फोन करके ट्रांजेक्शन फेल होने की बात कहकर पैसे रिफंड करने की शिकायत दर्ज करवाते थे. इससे कुछ दिनों में एकाउंट में पैसे वापस आ जाते थे. इसके लिए उन्होंने अपने गांव के लोगों के एटीएम जमा कर लिए थे, जिन्हें बदले में 10 हजार रुपए देने का वादा किया था. इसके बाद उनके खातों में पैसे डालकर दूसरे राज्यों में जाकर पैसे निकालते थे. हरियाणा में पैसे रिफंड नहीं होते और वहां ट्रांजेक्शन करने में कई लड़के पकड़े जा चुके हैं. इसलिए दूसरे राज्यों में जाकर पैसे निकालते हैं. बहरहाल पुलिस अब गिरोह के बाकी जालसाजों की तलाश कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज