Jabalpur Viral Video: ड्राय रन में ऐसे सीट से उछली नर्स, जैसे इन्हीं को लग रही है कोरोना का पहली वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन के ड्राय रन से ही घबरा गई महिला नर्स.

कोरोना वैक्सीन के ड्राय रन से ही घबरा गई महिला नर्स.

कोरोना के वैक्सीनेशन की तैयारियों को लेकर जबलपुर में किए गए ड्राय रन के दौरान एक दिलचस्प मामला सामने आया, जिसने प्रशासनिक खामियों को भी उजागर किया.

  • Last Updated: January 9, 2021, 12:11 PM IST
  • Share this:
जबलपुर. शहर में हुए कोरोना वैक्सीन के ड्राय रन में अजीबो-गरीब हास्यास्पद मामला देखने को मिला. एक नर्स इस ड्राय रन यानी महज रिहर्सल में ऐसे घबरा गईं जैसे पूरे विश्व में उन्हें ही कोरोना वैक्सीन का पहला डोज दिया जा रहा हो. डॉक्टर्स ने उन्हें बहुत समझाया लेकिन वो नहीं मानी.

कोरोना के खात्मे के लिए वैक्सीन का इंतजार देश भर में बेसब्री से भले ही किया जा रहा है, लेकिन इसको लेकर लोगों के मन में डर और दहशत अब भी बरकरार है. कोरोना के वैक्सीनेशन की तैयारियों को लेकर जबलपुर में किए गए ड्राय रन के दौरान एक दिलचस्प मामला सामने आया, जिसने प्रशासनिक खामियों को भी उजागर किया.

Youtube Video


नर्स ने ड्राय रन में शामिल होने से किया इनकार
दरअसल वैक्सीनेशन के लिए  चयनित लोगों की सूची में ऐसे कर्मचारियों के भी नाम शामिल कर दिए गए थे, जिनकी वैक्सीनेशन में ड्यूटी लगी थी. फिर क्या था मोबाइल पर संदेश मिलते ही जबलपुर की नर्स विनीता विलियम्स अपनी ड्यूटी करने के लिए वैक्सीनेशन सेंटर पर पहुंची. इस बीच वहां मौजूद स्टाफ ने उनको मरीज समझ कर टीका लगाने की मॉक ड्रिल शुरू की. स्वास्थ्य कर्मी महिला को जब मामला कुछ अटपटा लगा तो उन्होंने इस पर एतराज जताया और टीका लगवाने की प्रक्रिया में शामिल होने से इनकार कर दिया.

विश्वसनीयता पर जताया शक

स्वास्थ्य कर्मी होने के बावजूद भी महिला टीका लगवाने से बच रही थी. नर्स के रूप में काम करने वाली महिला को वैक्सीन की  विश्वसनीयता पर शक है. लिहाजा, उसने वैक्सीनेशन सेंटर से ही अपने पति को फोन किया और अफसरों को दो टूक कह दिया कि वह ड्यूटी करने आई थी ना कि मरीज के रूप में कोरोना टीका लगवाने. हालात की गंभीरता को भांपते हुए चिकित्सकों ने मौके पर पहुंचकर महिला को समझाइश दी. डॉक्टरों का कहना है कि शासन द्वारा निर्धारित एप के जरिए संबंधित लोगों को संदेश भेजे गए थे. डॉक्टरों ने साफ किया कि ड्राय रन के दौरान किसी को भी कोरोना की वैक्सीन नहीं दी जा रही है बल्कि तैयारियों को परखने ही स्वास्थ्य कर्मियों और चयनित मरीजों को वैक्सीनेशन सेंटर में बुलवाया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज