होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Jabalpur: नवंबर में 22 साल से नहीं पड़ा ऐसा जाड़ा, रिकॉर्ड स्तर तक गिरा पारा, अलाव बन रहे सहारा

Jabalpur: नवंबर में 22 साल से नहीं पड़ा ऐसा जाड़ा, रिकॉर्ड स्तर तक गिरा पारा, अलाव बन रहे सहारा

Winter Season MP : मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में इस बार ठंड का प्रकोप पिछले कई सालों की तुलना में ज़्यादा देखा जा रहा ह ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट – अभिषेक त्रिपाठी

    जबलपुर. मध्य प्रदेश में ठंड इस तरह कहर बरपा रही है कि इस बार नवंबर की ठंड ने बीते कई सालों का रिकॉर्ड तोड दिया है. जबलपुर में तो इस बार का नवंबर बीते 23 साल में सबसे सर्द रहा है. शहर में पहली बार रात का तापमान 7 डिग्री तक नीचे आ गया है. मौसम वैज्ञानिक इस कड़ाके की सर्दी की वजह जलवायु में परिवर्तन होने को मान रहे हैं. इससे पहले नवंबर के महीने में भोपाल के तापमान ने भी दो दशकों का रिकॉर्ड तोड़ा था और 10 डिग्री से नीचे दर्ज किया गया था.

    मौसम विभाग के अनुसार आधे अक्टूबर में मानसून विदा हुआ था, जो पिछले 10 वर्षों में तीसरी बार सबसे लेट विदाई रही. इसके कारण मौसम शुष्क बना रहा और लेट मानसून विदा होने से सर्दी जल्दी आ गई. आगे भी तेज़ ठंड पड़ने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है. नवंबर के शुरुआती दिनों में न्यूनतम पारा 15 से 20 डिग्री सेल्सियस के आसपास था, लेकिन सर्दी का कहर अचानक महीने के आखिरी दिनों में बरपा और यह न्यूनतम 7 डिग्री सेल्सियस तक आ गया.

    शहर में टूटा 22 वर्षों का रिकॉर्ड

    जबलपुर में बीते 23 वर्षों की तुलना में इस समय का तापमान सबसे कम रहा और पहली बार तापमान 7 डिग्री पर आ गया है. जबलपुर का मौसम वैसे तो खुशनुमा बना रहता है और नवंबर के महीने में हमेशा गुलाबी ठंड ही दिखाई पड़ती थी, लेकिन इस बार जबलपुर के लोग कांप रहे हैं. जगह जगह लोग अलाव का सहारा लेते नजर आने लगे हैं. दिन में भी घरों से बाहर निकलने पर गर्म कपड़ों का सहारा लेना पड़ रहा है.

    इधर मौसम विभाग का कहना है कि ठंड का कहर आगे भी जारी रहेगा. अगले कुछ दिनों मौसम ऐसा ही बना रहेगा और उसके बाद तेज़ सर्दी एक बार फिर लोगों की कंपकंपी छुड़ाएगी. दिसंबर के पहले या दूसरे हफ्ते से शीतलहर का प्रकोप भी शुरू हो सकता है. सिर्फ जबलपुर ही नहीं भोपाल और ग्वालियर संभागों में भी अच्छी खासी ठंड का दौर जारी है.

    Tags: Jabalpur news, Winter season

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें