पॉजिटिव माइंड सेट से काम कर रहा हूं, दवाई-इंजेक्शन ब्लैक करने वालों को बख्शूंगा नहीं: शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने जबलपुर कलेक्टर कार्यालय में अधिकारियों के साथ करीब 3 घंटे तक समीक्षा की.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने जबलपुर कलेक्टर कार्यालय में अधिकारियों के साथ करीब 3 घंटे तक समीक्षा की.

नकली रेमडेसीवीर इंजेक्शन के गोरखधंधे पर भी सीएम बेहद सख्त दिखे. उन्होंने स्पष्ट किया कि ऐसे नर पशुओं को सरकार बिल्कुल भी नहीं बख्शेगी. ना केवल एनएसए बल्कि उनकी संपत्तियों को राजसात करने का फैसला सरकार ले चुकी है. ऐसे लोग इंसानियत के दुश्मन हैं.

  • Share this:

जबलपुर. प्रदेश में जो कोई भी दवाइयों और इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहा है, वह नर पशु है जिसे जानवर कहना भी जानवरों का अपमान है. ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाएगा क्योंकि ऐसे लोग इंसानियत के दुश्मन हैं. यह बयान जबलपुर पहुंचे सूबे के मुखिया शिवराज सिंह चैहान ने दिया है. बेहद पॉजिटिव माइंड सेट के साथ जबलपुर पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान डुमना विमानतल से सीधे कोरोना की समीक्षा करने जिले के कलेक्टर कार्यालय पहुंचे और जनप्रतिनिधियों समेत आला अधिकारियों के साथ करीब 3 घंटे तक समीक्षा की. बैठक में अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए हुए उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि अभी सब चीजें भूल कर हमें मिलकर इस महामारी से लड़ना है. अकेले मुख्यमंत्री के बस की बात नहीं है कि वह कोरोना की इस महामारी से जीत सकें. बेशक प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 25 प्रतिशत से घटकर 16 फीसदी पर आ चुका है लेकिन अभी लंबा सफर तय करना है. अगर जरा भी लापरवाही की तो यह सब पर भारी पड़ सकती है.

सिटी अस्पताल के संचालक को बख्शा नहीं जाएगा

दो दिनों से यह मध्यप्रदेश को देश भर में सुर्खियों में लाने वाले नकली रेमडेसीवीर इंजेक्शन के गोरखधंधे पर भी सीएम बेहद सख्त दिखे. उन्होंने स्पष्ट किया कि ऐसे नर पशुओं को सरकार बिल्कुल भी नहीं बख्शेगी. ना केवल एनएसए बल्कि उनकी संपत्तियों को राजसात करने का फैसला सरकार ले चुकी है. ऐसे लोग इंसानियत के दुश्मन हैं. गौरतलब है कि विगत दो दिनों से जबलपुर में नकली रेमडेसीवीर का मसला सुर्खियां बटोरे हुए हैं. कोरोना संकट के बीच सामने आए नकली रेमडेसीवीर इन्जेक्शन मामले ने सरकार की भी आफत को बढ़ा दी है. सूबे की मुखिया खुद आज जबलपुर पहुंचे हैं. बहरहाल इस रैकेट में शामिल तमाम लोगों पर सख्त कार्रवाई की बातें की जा रही हैं जो शायद भविष्य में निजी अस्पतालों की ऐसे काले करतूतों पर नकेल कसने का काम करें.

Youtube Video

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने बताया कि सरकार कोरोना से लड़ने त्रिस्तरीय योजना पर काम कर रही है जिस पर सबसे पहले संक्रमण की चीन तोड़ना, दूसरा किल कोरोना अभियान के चलते सर्वे टीम का गांव गांव पहुंचना और तीसरी गरीब आम या मध्यम वर्गीय मरीजों का निशुल्क इलाज. निजी अस्पतालों में कराना इसके साथ-साथ सरकार वैक्सीनेशन पर भी केंद्रित है. ब्लैक फंगस और कोरोना की थर्ड वेव को लेकर सरकार अलर्ट है.

जबलपुर आगमन पर उन्होंने शहर को कोरोना संकटकाल में एक सौगात भी दी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने बताया कि जबलपुर स्थित नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आईसीयू और ऑक्सीजन बेड की संख्या को बढ़ा दिया गया है. अब मेडिकल कॉलेज में 640 बेड आईसीयू के उपलब्ध होंगे, वहीं मुख्यमंत्री ने ब्लैक फंगस और आगामी कोरोना की थर्डवेव पर भी चिंता जाहिर की और बताया कि इसे लेकर विशेषज्ञों की कमेटी बना दी गई है जो इस पर मंथन कर रही है क्योंकि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए घातक है. इस लिहाज से कमेटी इन तमाम बिंदुओं पर ध्यान रखकर काम कर रही है. सीएम ने कहा कि मैं रोजाना समीक्षा करूंगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज