लाइव टीवी

निजीकरण के खिलाफ रेल कर्मचारियों ने अर्थी जुलूस निकाला, आंदोलन की दी चेतावनी

Prateek Mohan Awasthi | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 23, 2019, 5:52 PM IST
निजीकरण के खिलाफ रेल कर्मचारियों ने अर्थी जुलूस निकाला, आंदोलन की दी चेतावनी
रेलवे कर्मचारियों ने दी रेल रोको आंदोलन की चेतावनी

रेलवे (Railway) के निजीकरण (Privatization) की खबरों के बीच जबलपुर में रेल कर्मचारियों (Rail employees) ने सड़क पर आकर अपना विरोध (Protest) दर्ज कराया. कर्मचारियों ने रेल रोको आंदोलन की चेतावनी देते हुए कहा कि वो किसी भी हालत में रेलवे का निजीकरण नहीं होने देंगे.

  • Share this:
जबलपुर. रेल्वे के निजीकरण (Privatization of Railways) को लेकर रेल कर्मचारी अब सड़क पर आकर विरोध दर्ज करवा रहे हैं. रेल मंत्रालय (Rail Ministry) द्वारा देश की 150 ट्रेनों (Trains) और 50 रेल्वे स्टेशनों (Railway stations) को निजी हाथों में सौंपे जाने के विरोध में वेस्ट सेंट्रल रेल्वे एम्प्लाईज़ यूनियन (West central Railway Employees Union) के बैनर तले करीब 1 हज़ार से अधिक अधिकारी कर्मचारियों ने अर्थी जुलूस निकालकर केन्द्र सरकार की खिलाफत की.

रेलवे का निजीकरण बर्दाश्त नहीं
वेस्ट सेंट्रल रेल्वे एम्प्लाईज़ यूनियन के बैनर तले विरोध प्रदर्शन में शामिल रेलकर्मी सरकार द्वारा तेजी से अपनाई जा रही निजीकरण की भूमिका के सख्त खिलाफ नज़र आए. प्रदर्शनकारी कर्मचारियों का कहना था कि केंद्र सरकार निजीकरण के माध्यम से रेल्वे को बेचने का प्रयास कर रही है, जिसे किसी भी हालत में स्वीकार नहीं किया जाएगा. पहले एक ट्रेन और अब 150 ट्रेनों को निजी हाथों में सौंपने से यात्रियों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. एक ओर जहां रेल सफर महंगा होगा, वहीं रेलकर्मियों के भविष्य पर भी संकट के बादल गहराएंगे. कर्मचारियों का कहना था कि भारतीय रेल में साढ़े 13 लाख कर्मचारी काम करते हैं, जो रेल सेवाओं को संचालित करने में सक्षम हैं.

News - रेल कर्मचारियों ने कहा है कि वो किसी भी हालत में रेल्वे को बिकने नहीं देंगे
रेल कर्मचारियों ने कहा है कि वो किसी भी हालत में रेल्वे को बिकने नहीं देंगे


रेल रोको आंदोलन की दी चेतावनी
रेल कर्मचारियों ने कहा है कि वो किसी भी हालत में रेल्वे को बिकने नहीं देंगे और आगामी दिनों में अगर फिर भी सरकार के कानों मे जूं नही रेंगी तो रेल रोको आंदोलन करने के लिए उन्हें बाध्य होना पड़ेगा. पश्चिम मध्य रेल्वे के मुख्यालय में हुए इस विरोध प्रदर्शन में ज़ोन से सभी कर्मचारी शामिल थे. जबलपुर के मुख्य रेल्वे स्टेशन से शुरू हुआ अर्थी जुलूस महाप्रबंधक कार्यालय तक पहुंचा जहां ज्ञापन सौंपकर अपनी मांग से कर्मचारियों ने अवगत कराया.

ये भी पढ़ें -
Loading...

दिग्विजय सिंह का आरोप- राम मंदिर मुद्दे के जरिए मठ मंदिरों पर कब्जा जमाना चाहता है RSS

कमलनाथ सरकार को हाईकोर्ट का नोटिस, महिलाओं को हेलमेट ना पहनने की छूट क्यों दी?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जबलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 5:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...