झाबुआ उपचुनाव: 'जंग' जीतने के लिए कांग्रेस ने झोंकी पूरी ताकत, 19 तारीख को तीसरी रैली करेंगे CM

झाबुआ के राणापुर में होगी मुख्यमंत्री की सभा.
झाबुआ के राणापुर में होगी मुख्यमंत्री की सभा.

झाबुआ विधानसभा (Jhabua Assembly) सीट पर हो रहे उपचुनाव (By-election) के लिए कांग्रेस ने अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है. यहां छह से ज्‍यादा मंत्री रैलियां कर रहे हैं तो चुनाव प्रचार के आखिरी दिन मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) राणापुर में जनसभा करेंगे. यह सीएम की झाबुआ में तीसरी रैली होगी. कांग्रेस ने यहां कांतिलाल भूरिया को मैदान में उतारा है.

  • Share this:
भोपाल. मध्‍य प्रदेश में झाबुआ विधानसभा (Jhabua Assembly) सीट पर हो रहे उपचुनाव (By-election) के आखिरी दौर के प्रचार में कांग्रेस अपनी ताकत झोंकेगी. प्रचार के आखिरी दिन कांग्रेस के स्टार प्रचारक और सूबे के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) धुआंधार प्रचार करेंगे. वह 19 अक्टूबर को झाबुआ के राणापुर में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे. हालांकि अब तक वह उपचुनाव के लिए दो बार प्रचार कर चुके हैं. सीएम 17 और 18 अक्टूबर को इंदौर में होने वाले मैग्नीफिसेंट एमपी (Magnificent MP) के बाद झाबुआ पहुंच कर कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया (Kantilal Bhuria) के समर्थन में चुनाव प्रचार करेंगे. जबकि इससे पहले 17 से 19 अक्टूबर के बीच कांग्रेस सरकार के कई मंत्री झाबुआ पहुंच अपने पक्ष में माहौल बनाने में जुटेंगे.

कमलनाथ कर चुके हैं दो सभाएं
सीएम कमलनाथ इससे पहले एक बार झाबुआ में रोड शो और एक बार चुनावी सभाओं को संबोधित कर चुके हैं. अब तीसरी बार उनका झाबुआ का कार्यक्रम तैयार हुआ है. इन तीन दौरों के जरिए सीएम कमलनाथ ने पूरे झाबुआ को कवर करने की कोशिश की है. आपको बता दें कि झाबुआ सीट पर 21 अक्टूबर को चुनाव होना है और इससे पहले कांग्रेस इस सीट पर अपना कब्जा जमाने के लिए पूरी ताकत झोंक रही है.

इस कारण पूरा दम लगा रही है कांग्रेस
पीसीसी चीफ और सीएम कमलनाथ के निर्देश पर कांग्रेस ने झाबुआ फतह करने का प्लान तैयार किया है. इसको लेकर सरकार के मंत्रियों के लगातार झाबुआ दौरे हो रहे हैं. आदिवासी वोटरों को साधने के लिए प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री आरिफ अकील भी कल झाबुआ में चुनाव प्रचार करेंगे. इसके अलावा सज्जन सिंह वर्मा भी डेरा डाल कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने का काम करेंगे. जबकि इससे पहले ही झाबुआ में बीजेपी को टक्कर देने के लिए कई मंत्रियों ने डेरा डाला हुआ है, जिनमें झाबुआ के प्रभारी मंत्री सुरेद्र सिंह, प्रियव्रत सिंह, कमलेश्वर पटेल,विजयलक्ष्मी साधौ आदि शामिल हैं.



दरअसल, झाबुआ सीट कांग्रेस के लिए कई मायनों में महत्वपूर्ण है. सूबे की सत्ता में आने और लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद कांग्रेस इस सीट को जीतने के लिए दम लगा रही है. यही वजह है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खुद इस सीट पर अपना फोकस बना कर रखा है. अब आखिरी दौर के चुनाव प्रचार में सीएम झाबुआ में कांतिलाल भूरिया के समर्थन में प्रचार कर माहौल बनाने का काम करेंगे.

ये भी पढ़ें-

'चींटी कांड' पर बोले कमलनाथ सरकार के मंत्री, दोबारा ऐसी घटना हुई तो...
मैग्नीफिसेंट MP को लेकर कमलनाथ सरकार का दावा, इस बार बदलेगी प्रदेश की 'किस्‍मत'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज