यहां लड़के को देना होता है 'दहेज', अरेंज मैरिज में 2.5 लाख तो लव मैरिज में 5 लाख रु. में होती है शादी

भील समाज की परंपरा के मुताबिक अगर किसी लड़के की अरेंज मैरिज होती है तो लड़के वालों को लड़की पक्ष को 2.5 लाख रुपए देना पड़ता है. वहीं, लड़की का परिवार एक किलो चांदी देते हैं.

News18 Madhya Pradesh
Updated: August 4, 2019, 10:21 AM IST
यहां लड़के को देना होता है 'दहेज', अरेंज मैरिज में 2.5 लाख तो लव मैरिज में 5 लाख रु. में होती है शादी
यहां लड़के को देना होता है दहेज, अरेंज मैरिज में 2.5 लाख तो लव मैरिज में 5 लाख में होती है शादी (सांकेतिक तस्वीर)
News18 Madhya Pradesh
Updated: August 4, 2019, 10:21 AM IST
शादी को लेकर हिंदुस्तान में कई परंपराएं हैं. कहीं लड़की वालों को तो कहीं लड़के वालों को दहेज देना पड़ता है. इसी दहेज के नाम पर बेटियां मारी भी जाती हैं. एक तरफ जहां लव मैरिज करने वाले जोड़ों को घर छोड़ना पड़ता है, तो वहीं अरेंज मैरिज के लिए लड़की के पिता को लाखों रुपए दहेज में देना पड़ता है. बहरहाल, मामला मध्य प्रदेश के झाबुआ जिले के आदिवासी बहुल इलाके का है. यहां शादी के लिए लड़के वालों को ही पैसे देने पड़ते हैं. अगर ऐसा नहीं होता है तो समाज के लोग उसे स्वीकार नहीं करते हैं.

यहां लड़के वाले लड़की के परिवार को देते हैं 2.5 लाख रुपए

आदिवासी समाज-tribal community
यहां लड़के वाले लड़की के परिवार को 2.5 लाख रुपए देते हैं. (सांकेतिक तस्वीर)


आपको बता दें कि झाबुआ में ज्यादातार भील समाज के आदिवासी रहते हैं. इनकी परंपरा बेहद अनोखी है. यहां समाज के लिए बने कानून का पालन सभी को करना अनिवार्य है. भील समाज की परंपरा के मुताबिक, अगर किसी लड़के की अरेंज मैरिज होती है तो यहां लड़के वालों को 2.5 लाख रुपए लड़की के परिवार को देना पड़ता है. वहीं, लड़की के परिवार को लड़का पक्ष को एक किलो चांदी देना होता है. साथ ही दोनों परिवार के लोग मिलजुलकर समाज के लोगों को पार्टी देते हैं.

लव मैरिज पर लड़के को देने होते हैं 5 लाख रुपए

शादी-marriage
लव मैरिज करने पर लड़के के परिवार को लड़की पक्ष को 5 लाख रुपए देने होते हैं. (सांकेतिक तस्वीर)


आदिवासी समाज में एक और परंपरा है. इसके तहत कोई लड़का या लड़की अगर लव मैरिज करते हैं, तो लड़की के घरवालों को लड़का पक्ष 5 लाख रुपए देता है. जब तक लड़का यह राशि नहीं देता, तब तक उसकी शादी समाज में मान्य नहीं मानी जाती है. पांच लाख रुपए देने के बाद ही लड़का और लड़की की शादी को समाज से मान्यता मिलती है.
Loading...

नियम पालन न करने पर समाज से बहिष्कृत करने की सजा

आपको बता दें कि ये परंपराएं आज भी आदिवासी समाज के लोगों में मान्य हैं. जो लोग इसका पालन नहीं करते हैं, उन्हें समाज से बहिष्कृत तक कर दिया जाता है.

ये भी पढ़ें:- 'मिलावट करने वाले MP छोड़ दें या जेल जाने को तैयार रहें' 

ये भी पढ़ें:- एमपी: इस वजह से 1 लाख रुपये क्विंटल बिका अफीम का बीज!
First published: August 4, 2019, 9:38 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...