लाइव टीवी

झाबुआ के रण में भूरिया VS भूरिया : मतदाता किससे निभाएगा रिश्तेदारी!

Virendra Singh | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 15, 2019, 11:47 AM IST
झाबुआ के रण में भूरिया VS भूरिया : मतदाता किससे निभाएगा रिश्तेदारी!
झाबुआ उपचुनाव में भूरिया VS भूरिया

झाबुआ आदिवासी इलाका है. यहां समाज के साथ-साथ रिश्तेदारी के आधार पर भी वोट पड़ते हैं. इस बार क्योंकि कांग्रेस औऱ बीजेपी दोनों प्रत्याशी भूरिया हैं इसलिए जीत के लिए रिश्तेदारी फैक्टर बड़ा मायने रखेगा. मतदाता वोट देने से पहले ये देखते हैं कि किस प्रत्याशी ने उनसे कितनी रिश्तेदारी निभायी..

  • Share this:
झाबुआ. झाबुआ (jhabua)विधान सभा उप चुनाव (assembly by election)में कांग्रेस-बीजेपी (congress-bjp)दोनों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है. कांग्रेस अपने पुराने गढ़ को फिर फतह करने के लिए जुगत लगा रही है और बीजेपी अपनी सीट बचाने की जी-तोड़ कोशिश में हैं. कांग्रेस की ओर से सीएम कमलनाथ (cm kamalnath)के रोड शो (road show)के बाद मंत्रियों की टीम यहां सक्रिय है. बीजेपी की ओर से युवा नेताओं से लेकर वरिष्ठतम नेता सुमित्रा महाजन (sumitra mahajan) तक के यहां प्रचार का कार्यक्रम तय है.

बीजेपी की रणनीति कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया (kantilal bhuria)के ख़िलाफ वो माहौल बनाने रखने की है, जिसमें वो हाल ही में लोकसभा चुनाव हारे थे. बीजेपी प्रत्याशी भानु भूरिया के प्रचार के लिए पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान दो दिन से इलाके में सक्रिय हैं. ये आदिवासी इलाका है. यहां समाज के साथ-साथ रिश्तेदारी के आधार पर भी वोट पड़ते हैं. इस बार क्योंकि कांग्रेस औऱ बीजेपी दोनों प्रत्याशी भूरिया हैं इसलिए जीत के लिए रिश्तेदारी फैक्टर बड़ा मायने रखेगी. मतदाता वोट देने से पहले ये देखते हैं कि किस प्रत्याशी ने उनसे कितनी रिश्तेदारी निभायी.
शिवराज की एंट्री
झाबुआ के रण में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की एंट्री ने कांग्रेस की चिंता बढ़ा दी है. सोमवार को शिवराज सिंह ने बीजेपी प्रत्याशी भानू भूरिया के समर्थन में रोड शो किया, छोटी-छोटी सभाएं लीं, खेतों में जाकर बारिश से बर्बाद सोयाबीन की फसल देखी और किसानों को ढांढस बंधाया कि मामा उनके साथ है और मुआवज़े की लड़ाई लड़ेगा.

कांतिलाल पर वार, जेवियर से सहानुभुति
झाबुआ उपचुनाव में बीजेपी की रणनीति ये है कि कांतिलाल भूरिया के खिलाफ जो माहौल है उसे बनाए रखा जाए और जनता के मन में जेवियर को लेकर जो सहानुभुति है उसे अपने पक्ष में किया जाए. फिलहाल झाबुआ उपचुनाव दोनों ही दलों के लिए चुनौती बन चुका है. हर हाल में दोनों ही दल चुनाव में अपना परचम लहराने के लिए एड़ी-चोटी का ज़ोर लगा रहे हैं. झाबुआ चुनाव के रण में कड़ी टक्कर जारी है. कांग्रेस भले भानु भूरिया को कमजोर प्रत्याशी मान रही हो लेकिन बीजेपी पूर्व सीएम शिवराज और सांसद गुमान सिंह डामोर के नाम पर चुनाव लड़ रही है. पिछले 9 महीनों में कमलनाथ सरकार की विफलताओं को जनता के बीच उठा रही है.
मामा का असर
Loading...

मामा यानि शिवराज सिंह चौहान का झाबुआ ज़िले में अब भी असर बरकरार है, इस बात का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सोमवार को वो जब रोड शो पर निकले तो फुलमाल गांव से लेकर तलावली तक उनके रोड में भीड़ उमड़ी.जगह लोगों ने स्वागत किया, महिलाओं ने आरती उतारी, वृद्ध महिलाओं ने शिवराज सिंह चौहान को आशीर्वाद दिया.
रोड शो के दौरान जब शिवराज सिंह चौहान का काफिला खुटाया स्कूल से गुजर रहा था. स्कूली बच्चों ने सड़क पर आकर उनका काफिला रोक लिया.बच्चों की ज़िद पर मामा को कार से उतरना पड़ा. भांजों ने हार पहनाकर स्वागत किया और उनका आशीर्वाद लिया.
सबकी अपनी अलग कांग्रेस
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कांग्रेस पर निशाना साध गए. अपनी सभाओं में उन्होंने कहा कि दिल्ली से लेकर कांग्रेस अलग-अलग खेमों में बटी है. दिल्ली में सोनिया गांधी की कांग्रेस अलग है, राहुल गांधी की कांग्रेस अलग है. भोपाल में कितनी कांग्रेस हैं इसकी गिनती जारी है. कमलनाथ की अलग, सिंधिया की अलग, दिग्विजय सिंह की अलग, अरूण यादव की अलग कांग्रेस है.पूर्व सीएम शिवराज ने कहा झाबुआ में भी कांतिलाल की कांग्रेस अलग है. और जेवियर मेड़ा की कांग्रेस की अलग है.
शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस प्रत्याशी पर हमला करते हुए कहा कि कांतिलाल भूरिया परिवारवाद की राजनीति करते हैं. हर चुनाव में कांग्रेस की ओर से भूरिया परिवार से प्रत्याशी होता है, जबकि बीजेपी की ओर से हर बार नया चेहरा होता है. शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस प्रत्याशी कांति लाल भूरिया पर कटाक्ष किया कि पहले बाप, फिर बेटा, फिर बाप को टिकट. अरे जेवियर ने ऐसा कौन सा पाप किया कि उसे टिकट नहीं दिया जाता.
शिवराज माहौल बनाने में माहिर हैं
पूर्व सीएम माहौल बनाने में माहिर हैं. माहौल को कैसे अपने पक्ष में किया जाता है वो बखूबी जानते हैं. फुलमाल से कल्याणपुरा और तलावली तक के रोड शो में सोयाबीन के खेत में जाना , भांजे-भांजियों से मिलना प्रचार रणनीति का हिस्सा हो सकता है लेकिन शिवराज नेमइसे भुनाया और किसानों की सहानुभुति बटोर ले गए. उन्होंने लोगों से सवाल किया कि सीएम कमलनाथ इसी रोड से गुजरे, उनके मंत्री पिछले 10 दिन से इसी क्षेत्र में प्रचार कर रहे हैं. कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया खुद इस क्षेत्र में जनसंपर्क कर रहे हैं. लेकिन किसानों की फिक्र किसी को नहीं है, शिवराज हमेशा किसानों के साथ खड़ा है, और उनके मुआवजे की लड़ाई लड़ेगा.

दो दिन का दौरा
शिवराज सिंह चौहान दो दिन कल्याणपुरा और झाबुआ ग्रामीण में प्रचार करेंगे. रात में उन्होंने झाबुआ शहर में लोगों से मुलाकात की. इसके बाद पूर्व सीएम कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाले बोरी-राणापुर में प्रचार करेंगे. शिवराज ग्रामीण इलाकों में जितना पहुंचेंगे उतनी ज्यादा कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झाबुआ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 11:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...