झाबुआ: साथी पुलिसकर्मियों के लिए ड्यूटी के साथ संभाली किचन की कमान, रोजाना बना रहीं खाना और नाश्ता

झाबुआ में स्टाफ के लिए खाना बनातीं महिला पुलिसकर्मी (फाइल फोटो)

झाबुआ में स्टाफ के लिए खाना बनातीं महिला पुलिसकर्मी (फाइल फोटो)

झाबुआ पुलिस अधीक्षक विनीत जैन ने महिला पुलिसकर्मियों के इस काम की सराहना की है. उन्होंने सभी महिला पुलिसकर्मियों को 500-500 रुपये का नकद पुरस्कार (Prize) देकर सम्मानित भी किया.

  • Share this:
झाबुआ. फील्ड में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों के लिए बाहर से बनकर आ रहे खाने में संक्रमण के खतरे के कारण पुलिस (Police) ने नया तरीका अपनाया है. अब महिला पुलिसकर्मियों ने अपनी ड्यूटी के साथ किचन (Kitchen) की कमान भी संभाल ली है. ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों के लिए इस किचन में खाना तैयार किया जाता है. कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई में महिला पुलिसकर्मी भी पीछे नहीं हैं. वे अपनी ड्यूटी तो कर ही रही हैं, अपने साथी पुलिसकर्मियों को भी सहारा दे रही हैं. झाबुआ कोतवाली में पदस्थ महिला कांस्टेबलों ने विशेष रसोई चलाकर टीम भावना की मिसाल पेश की है.



महिला कांस्टेबल ने थाने में बनाई किचन

लॉकडाउन (Lockdown) का पालन कराने के लिए सुबह से ही ड्यूटी पर पहुंचने वाले पुलिसकर्मियों को जब झाबुआ कोतवाली में पदस्थ महिला कांस्टेबलों ने नाश्ता और खाने के लिए परेशान देखा, तो उनसे रहा नहीं गया. बाहर से बनकर आया नाश्ता और खाना करते वक्त पुलिस जवानों के मन में यह शंका बनी रहती कि जो नाश्ता और खाना वह ले रहे, कहीं उसमें भी संक्रमण न हो. संक्रमण के भय से कुछ जवान तो नाश्ता और खाना खाते ही नहीं थे. पुलिस जवानों की यह दुविधा समझकर कोतवाली में पदस्थ महिला आरक्षक निर्मला, रिंकी, प्रियंका, बसंती आगे आईं और उन्होंने कोतवाली थाना प्रभारी को सुझाव दिया कि यदि उन्हें खान-पान सामग्री और कुछ बर्तन उपलब्ध करा दिए जाएं, तो हम रोज सुबह पूरी साफ-सफाई के साथ अपने साथियों के लिए नाश्ता और खाना तैयार कर देंगे.



100 जवानों के साथ अधिकारियों को मिल रहा खाना
थाना प्रभारी ने इस नेक सलाह को मानकर बर्तन और भोजन सामग्री का इंतजाम करवा दिया. फिर कोतवाली में शुरू हो गई एक स्पेशल रसोई. 20 अप्रैल से चल रही इस विशेष रसोई में महिला कांस्टेबल रोज सुबह 8 बजे तक कोतवाली क्षेत्र के लगभग 100 जवानों के लिए नाश्ता तैयार कर देती हैं. यह नाश्ता थाने के फिक्स पॉइंट पर और पेट्रोलिंग ड्यूटी में लगे पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों तक पहुंचाया जाता है. साफ-सुथरे ढंग से बना हुआ नाश्ता और खाना समय पर मिल जाने से पुलिस जवान पूरे मन से अपनी ड्यूटी कर रहे हैं. जवानों के साथ संभाग के अफसर भी डेली नाश्ता और खाना खाते हैं.





एसपी ने दिया नकद इनाम

झाबुआ पुलिस अधीक्षक विनीत जैन ने महिला पुलिसकर्मियों के इस काम की सराहना की है. उन्होंने सभी महिला पुलिसकर्मियों को 500-500 रुपये का नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया.



ये भी पढ़ें: Nurses Day: भोपाल की नर्स कोरोना पॉजिटिव, बेटी भी संक्रमित, फिर भी ड्यूटी पर जाने को तैयार


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज