Home /News /madhya-pradesh /

18 महीने से टूटी पड़ी थी पुलिया, विधायक धरने पर बैठे तो रातों रात पक्का कर दिया गया रास्ता

18 महीने से टूटी पड़ी थी पुलिया, विधायक धरने पर बैठे तो रातों रात पक्का कर दिया गया रास्ता

झाबुआ कलेक्टर ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही सड़क बना दी जाएगी.

झाबुआ कलेक्टर ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही सड़क बना दी जाएगी.

Jhabua News: विधायक (MLA) का कहना है लोग परेशान हो रहे थे, लेकिन कोई सुन नहीं रहा था. झाबुआ से पेटलावद मार्ग रतलाम-उज्जैन जिलों को जोड़ता है. यह काफी पुराना हो चुका है. दो बार दो पुलिया टूट चुकी हैं और कई पुलिया जर्जर हो चुकी हैं.

अधिक पढ़ें ...
झाबुआ. पेटलावद विधायक (MLA) वालसिंह मेड़ा की धमकी काम आई और रातों रात गांव वालों के आने जाने के लिए एक रास्ता बना दिया गया. झाबुआ-पेटलावद मार्ग पर पिछले साल फरवरी से पुलिया टूटी पड़ी थी.  18 महीने से लोग परेशान थे. कई जगह शिकायत की गयी लेकिन कोई सुनने वाला नहीं था.  विधायक को धरना देना पड़ा. धरने पर बैठते ही रातों-रात वैकल्पिक मार्ग को पक्का कर दिया गया और मार्च से पहले सड़क बनाने का भी आश्वासन मिल गया.

झाबुआ जिले की यह सड़क झाबुआ-रतलाम और उज्जैन को जोड़ती है. रायपुरिया के पास 5 फरवरी 2020 को पुलिया दो हिस्सों में बंट गई थी. उसके बाद लोगों को उम्मीद थी कि विभाग जल्द इसका निर्माण करवाएगा, लेकिन कई बार शिकायत करने के बाद भी लोगों की परेशानी जस की तस बनी रही. 181 पर शिकायत की, जनसुनवाई में आवेदन दिए, विधायक ने कलेक्टर से लेकर मंत्री तक पुलिया निर्माण की मांग की लेकिन निर्माण का रास्ता नहीं निकल पाया.

धरने का ऐलान
पुलिया टूटने के बाद यहां वैकल्पिक मार्ग मनाया गया, जिसकी उड़ती धूल आसपास के दुकानदारों और मुसाफिरों के लिए मुसीबत बन गयी. बारिश में कीचड़ से लोग परेशान हो गए. मजबूरन 12 जुलाई को पुलिया निर्माण की मांग लेकर विधायक वाल सिंह मेड़ा ने धरना देने का ऐलान कर दिया.

रातों रात वैकल्पिक मार्ग
सोमवार को विधायक अपने समर्थकों और आम लोगों के साथ टूटी हुई पुलिया पर जब धरना देने पहुंचे तो हर कोई हैरत में पड़ गया. क्योंकि रातों- रात वैकल्पिक मार्ग पर डामरीकरण कर दिया गया था. इसके बाद विधायक पुलिया निर्माण की मांग को लेकर धरने पर बैठे. विधायक ने साफ कर दिया कि जब तक कलेक्टर आकर नहीं बताएंगे कि पुलिया कब  बन जाएगी वो धरने से नहीं उठेंगे. खबर मिली तो झाबुआ कलेक्टर सोमेश मिश्रा धरना स्थल पर पहुंचे और  भरोसा दिलाया कि सब कुछ ठीक रहा तो इसी साल दिसंबर तक पुलिया का निर्माण हो जाएगा.

मंजूरी का इंतजार
कलेक्टर के आश्वासन पर विधायक वालसिंह मेड़ा ने धरना खत्म किया. विधायक का कहना है लोग परेशान हो रहे थे लेकिन कोई सुन नहीं रहा था. झाबुआ से पेटलावद मार्ग रतलाम-उज्जैन जिलों को जोड़ता है. ये काफी पुराना हो चुका है. दो बार दो पुलिया टूट चुकी हैं और कई पुलिया जर्जर हो चुकी हैं. पीडब्ल्यूडी के ईई का कहना है सभी पुलिया का प्रस्ताव बनाकर भेजा जा रहा है, स्वीकृति मिलते ही विभागीय प्रक्रिया पूरी होने के बाद पुलिया का निर्माण करवा जाएगा.

Tags: BJP MLA, Jhabua news, Protest, Silk road

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर