लड़की ने की गांव के युवक से शादी, विरोध में थाने पहुंचीं महिलाओं ने कहा-पुलिस ने मारे डंडे

झाबुआ जिले के काकनवानी थाना क्षेत्र के मदरानी गांव की लड़की ने घर से भागकर गांव के ही एक युवक से शादी कर ली. जिसके विरोध में थाने पहुंचीं महिलाओं ने पुलिस पर अपने साथ मारपीट करने का आरोप लगाया है.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 12, 2019, 9:57 PM IST
लड़की ने की गांव के युवक से शादी, विरोध में थाने पहुंचीं महिलाओं ने कहा-पुलिस ने मारे डंडे
थाने पहुंचीं महिलाओं पर डंडा ताने पुलिस
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 12, 2019, 9:57 PM IST
झाबुआ में फरियाद लेकर काकनवानी थाना पहुंचीं महिलाओं ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया है. इसका एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें काकनवानी थाना प्रभारी और कुछ पुलिस वाले महिलाओं पर डंडे उठाते दिखाई दे रहे हैं. महिलाओं ने आरोप लगाए हैं कि उन पर न सिर्फ डंडे उठाए गए बल्कि बरसाए भी गए हैं और जिनके निशान भी उनके शरीर पर हैं.

पुलिस से पीड़ित महिला अपना हाथ दिखाते हुए




पुलिस किसी भी तरह की मारपीट से इनकार कर रही है. पुलिस का कहना है कि उग्र भीड़ को डराने के लिए केवल डंडे उठाए गए थे. झाबुआ एसपी विनीत जैन ने कहा कि लड़की की जान बचाने के लिए पुलिस को लोगों को डराने के लिए ऐसा करना पड़ा.  लड़की ने खुद कोर्ट में बयान दिए हैं कि उसे उसके परिजनों से खतरा है.

घर से भागकर गांव के युवक से ही कर ली शादी

दरअसल काकनवानी थाना क्षेत्र के मदरानी गांव की लड़की ने प्रेम- प्रसंग के चलते घर से भागकर गांव के एक युवक से शादी कर ली. लेकिन लड़की के परिजनों को इस शादी से एतराज था, 26 जून को लड़की के परिजनों ने काकनवानी थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई. बाद में लड़की और लड़के दोनों उज्जैन मंदिर में शादी करने के बाद इंदौर के एरोड्रम थाने में पेश हुए थे, जहां से उन्हें काकनवानी लाया गया. जिसके बाद लड़की के बयान के लिए थांदला एसडीएम कोर्ट में लाया गया. बयान के बाद जब पुलिस लड़की काकनवानी थाने ले गई. तब वहां पर मौजूद भीड़ ने लड़की के साथ मारपीट की.

झाबुआ एसपी विनीत जैन ने किया महिलाओं की पिटाई से इनकार


7 महिलाओं समेत 26 लोगों पर पुलिस ने दर्ज किया है मामला 
Loading...

हालांकि मामले को लेकर पुलिस 26 लोगों पर मामला दर्ज किया है, जिनमें 7 महिलाएं शामिल भी हैं. 9 लोगों की मामले में गिरफ्तारी भी हो चुकी है लेकिन सवाल वही है कि क्या पुलिस को महिलाओं के साथ इस तरह का व्यवहार करना चाहिए था, प्रदेश सरकार महिलाओं के सम्मान की बात कह रही लेकिन ये
तस्वीर इसके ठीक उलट है.

(रिपोर्ट- वीरेंद्र)

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...