लाइव टीवी

फॉरेस्ट गार्ड की दबंगई, मजदूरी परिवार पर जुल्म ढाने के आरोप
Katni News in Hindi

Pradesh18
Updated: February 4, 2016, 7:02 PM IST
फॉरेस्ट गार्ड की दबंगई, मजदूरी परिवार पर जुल्म ढाने के आरोप
demopic

  • Pradesh18
  • Last Updated: February 4, 2016, 7:02 PM IST
  • Share this:
पन्ना में वन विभाग की दादागिरी लगातार बढ़ती जा रही है. वन विभाग के कर्मचारी और अधिकारी जांच के नाम पर बेकसूर लोगों पर जुल्म ढाने से नहीं चूक रहे.

दरअसल, ऐसा ही एक मामला वन परिक्षेत्र रैपुरा तहसील के गंज गांव का है. जहां रहने वाले चूरामन विश्वकर्मा के घर पर फॉरेस्ट गार्ड प्रेम शंकर ताला तोड़कर घुस गया.

पीड़ित का आरोप है कि पूरे घर को जांच के नाम पर तहस नहस कर डाला और घर की आटारी में लगी 50 वर्ष पुरानी लकड़ी निकाल ली. जैसे ही घर की बच्चियों को इस पूरे मामले की जानकारी लगी, तो उन्होंने गार्ड को ऐसा करने से रोका.

कलेक्टर से लगाई न्याय की गुहार



जिस पर फॉरेस्ट गार्ड ने बच्चियों से भद्दी-भद्दी गालियां देना शुरू कर दीं. बच्चियों ने यह बताया कि यह लकड़ियां बहुत पुरानी हैं. इसके बावजूद भी फारेस्ट गार्ड अपने साथियों की मदद से लकड़ियां उठा कर ले गया. जिसकी शिकायत पीड़ित चंदा विश्वकर्मा के परिवार ने पन्ना कलेक्टर के समक्ष दर्ज कराई है और न्याय की गुहार लगाई है.

फॉरेस्ट गार्ड की दबंगई की वजह
पीड़ित परिवार की बच्चियों का कहना है कि पेशे से बढ़ई उनके पिता चूरामन को फॉरेस्ट गार्ड प्रेम शंकर ने जंगला और चौखट मजदूरी में बनाने के लिए दिये थे. जिसको बनवाने की चूारमन ने 4500 रुपए मजदूरी मांगी थी.

जब फारेस्ट गार्ड ने मजदूरी की राशि नहीं दी, तो उसने यह राशि मांगी. इससे गुस्साए गार्ड ने रैपुरा रेंज ऑफिस में चूरामन को लात-घूसों से बुरी तरह पीटा और यह धमकी भी दी गई कि तेरे ऊपर लकड़ी चुराने का केस बनाकर जेल भेज दिया जाएगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कटनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2016, 2:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर