vidhan sabha election 2017

विराट की चाची बोलीं- हमें नहीं मिला शादी का न्योता

News18Hindi
Updated: December 8, 2017, 3:00 PM IST
विराट की चाची बोलीं- हमें नहीं मिला शादी का न्योता
क्या दिसंबर में विराट-अनुष्का शुरू करेंगे सबसे अहम साझेदारी?
News18Hindi
Updated: December 8, 2017, 3:00 PM IST
टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और बॉलीवुड अदाकारा अनुष्का शर्मा की शादी की खबरें पूरी दुनिया में सुर्खियां बटोर रही हैं. युवाओं में बेहद लोकप्रिय इन दोनों सितारों की जिंदगी से जुड़ी यह खबर जानने के लिए हर कोई उत्सुक हैं, लेकिन कोहली की चाची की मानें तो उन्हें अब तक कोई सूचना या न्योता नहीं मिला है.

दरअसल, टीम इंडिया के रॉकस्टार कप्तान विराट कोहली और बॉलीवुड की स्टार अदाकारा अनुष्का शर्मा की शादी की खबरों के बीच उनकी चाची का चौंकाने वाला बयान सामने आया है. विराट की चाची ने कहा है कि परिवार के किसी भी सदस्य को विराट की शादी के बारे में जानकारी नहीं.

मध्य प्रदेश के कटनी में रहने वाली विराट की चाची और शहर की पूर्व मेयर आशा कोहली ने NEWS18 से खास बातचीत में कहा, 'अभी तक विराट या उनके परिवार के किसी भी सदस्य ने उनकी शादी के बारे में कोई भी जानकारी शेयर नहीं की है.'

virat kohli, anushka sharma,
विराट कोहली की चाची और उनका परिवार


विराट की सगी चाची आशा की मानें तो, केवल उन्हें ही नहीं बल्कि किसी अन्य रिश्तेदार को भी अभी तक शादी के बारे में सूचना नहीं मिली है. बस मीडिया के जरिये ही आ रही खबरों से ही उन्हें पता चला कि विराट और अनुष्का की शादी हो रही है.

विराट कोहली का 'कटनी' कनेक्शन
1947 में अंग्रेजी दासता से मिली मुक्ति के साथ ही एक देश के दो टुकड़े हो गए थे. इसी बंटवारे का दर्द विराट कोहली के परिवार ने भी झेला था. उनके परिवार को भी पाकिस्तान से सबकुछ छोड़कर हिन्दुस्तान आना पड़ा था.

चारों तरफ लूट-पाट और मौत के मंजर के बीच कोहली का परिवार पाकिस्तान से सैकड़ों मील का सफर तय कर 1947 में मध्य प्रदेश के कटनी शहर आ गया था. इसके बाद अगले 14 साल तक उनके पिता प्रेम कोहली ने इसी शहर में मुकाम जमाया था.

1961 में विराट के पिता प्रेम कोहली अपनी फैमेली के साथ दिल्ली शिफ्ट हो गए. इसी शहर में विराट का जन्म हुआ और पाकिस्तान से आया कोहली परिवार दिलवालों की दिल्ली की पहचान बन गया.

मध्य प्रदेश के कटनी में अपने परिवार से मिलने विराट आखिरी बार 11 साल पहले वर्ष 2005 में आए थे. उस वक्त विराट कोहली उभरते हुए क्रिकेटर थे. उन्होंने अपने क्लब और दिल्ली के लिए कुछ उम्दा पारियां खेली थीं, लेकिन क्रिकेट के दुनिया में वो बड़ा नाम नहीं थे. इसके बाद क्रिकेट में उनका दर्जा बढ़ता गया और वक्त की कमी के चलते वह फिर से कटनी शहर नहीं आ सके.

भतीजे ने क्रिकेट तो चाची ने राजनीति में लहराया परचम
विराट के पिता ने दिल्ली में कारोबार जमाया, तो उनके भाई और भाभी ने कटनी में राजनीति के मैदान में परचम लहराया. कटनी में रहने वाली उनकी चाची आशा कोहली इस शहर की महापौर चुनी गईं.

चाचा गिरीश कोहली और चाची आशा कोहली अब भी कटनी में रहते हैं. उन्हें इस बात का गर्व है कि उनका लाडला भतीजा देश के लिए क्रिकेट खेलता है और अपने खेल से पूरी दुनिया में भारत और अपने परिवार का नाम रोशन कर रहा है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर