खंडवा से खास नाता रहा है अटल बिहारी बाजपेयी का
Khandwa News in Hindi

खंडवा से खास नाता रहा है अटल बिहारी बाजपेयी का
स्मृतिशेष : َखंडवा के बीजेपी नेताओं के साथ अटल बिहारी बाजपेयी

अटल बिहारी वाजपेयी का खंडवा से खास और गहरा नाता रहा.1948 में अटल यहां राष्ट्रधर्म पत्रिका के संपादक थे.सरकार ने राष्ट्रधर्म के प्रेस कर्मचारियों को जेल में बंद कर दिया था व कार्यालय को सील कर दिया था. अटल बिहारी वहां से भूमिगत हो गए और अप्रैल 1948 में उनका खंडवा आगमन हुआ.

  • Share this:
अटल बिहारी वाजपेयी का खंडवा से खास और गहरा नाता रहा.1948 में अटल यहां राष्ट्रधर्म पत्रिका के संपादक थे.सरकार ने राष्ट्रधर्म के प्रेस कर्मचारियों को जेल में बंद कर दिया था व कार्यालय को सील कर दिया था. अटल बिहारी वहां से भूमिगत हो गए और अप्रैल 1948 में उनका खंडवा आगमन हुआ. यहां एक दिन हजारी लाल अग्रवाल के निवास पर रहे. यहां से इलाहाबाद चले गए.इसके बाद 1952 में पुनः अटल जी का खंडवा आगमन हुआ.1955 में एक बार खंडवा में अटल जी ने कवि सम्मेलन में भाग लिया. इसमें ताराचंद कर्वे,शंकरलाल तिवारी, हजारीलाल अग्रवाल, नंदकिशोर शर्मा सहित कवियों ने भाग लिया. कवि सम्मेलन बुधवारा बाजार में लाला जलेबी के सामने मंच लगाकर हुआ था.इसमें अटल बिहारी ने हिंदू तन-मन हिंदू जीवन, रग-रग हिंदू मेरा परिचय... व उनकी याद करें... व अमर आग है-अमर आग है... कविताओं का मंच से पाठ किया था.

सन 1960 में अटल बिहारी इंदौर से कार द्वारा रात्रि में खंडवा पहुंचे. यहां पर नाना साहब गद्रे के निवास स्थान तीन पुलिया के सामने रुके थे. सुबह कोलकाता मेल से जबलपुर के लिए रवाना हुए.1971 में लोकसभा चुनाव में जनसंघ के उम्मीदवार वीरेंद्र कुमार आनंद थे. उनके प्रचार हेतु खंडवा में लक्कड़ बाजार सब्जी मंडी में अटल बिहारी ने आम सभा की.1977 में आपातकाल के दौरान लोकसभा चुनाव में अटल बिहारी, परमानंद गोविंद वाला के चुनाव प्रचार हेतु देर रात्रि में लगभग 1:00 बजे अनाज मंडी में आम सभा हुई. बारिश के कारण सभा लेट होती गई अटल जी के अन्य कार्यक्रम भी लेट हुए लेकिन रात्रि 1:00 बजे की सभा में भी हजारों लोगों की उपस्थिति रही.लोग अटल को सुनने के लिए दिन भर सभा स्थल का चक्कर लगाते रहे और इंतजार करते थे.

1979 में खंडवा का लोकसभा का उप चुनाव हुआ जिसमें कुशाभाऊ ठाकरे जनता पार्टी के उम्मीदवार थे. इनकी सभा अनाज मंडी प्रांगण में हुई।.1982 में भाजपा के खंडवा जिले की ओर से अटल बिहारी को पार्टी कार्यों के लिए पांच लाख की थैली भेंट की गई. पार्टी के जिलाध्यक्ष बृजमोहन मिश्रा  एवं कोषाध्यक्ष नारायण हेमवानी थे.सभास्थल अनाज मंडी प्रांगण में वर्तमान मंडी कार्यालय के स्थान पर था.1993 में मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में पूरणमल शर्मा भाजपा के उम्मीदवार थे. आमसभा अनाज मंडी प्रांगण में हुई, जिसमें अट आए. 1999 में अटल बिहारी की सभा प्रधानमंत्री के रुप में पॉलिटेक्निक कॉलेज के पास हुई तब लोकसभा के उम्मीदवार नंदकुमार सिंह चौहान थे. अटल जी की सरकार 1 वोट से गिरने से यह चुनाव हुआ था. 2003 में अटल बिहारी प्रधानमंत्री के रूप में ओंकारेश्वर परियोजना के शिलान्यास हेतु पधारे तथा खंडवा में छैगांवमाखन के पास अटल जी की सभा हुई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज