इनसे मिलिए....ये हैं एमपी की दंगल गर्ल माधुरी पटेल, जानिए इनके बारे में

माधुरी के पिता जगदीश पटेल पहलवान बनना चाहते थे. लेकिन ग़रीबी के कारण वो अपना सपना पूरा नहीं कर सके.

Harendra Nath Thakur | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 1, 2019, 7:08 PM IST
Harendra Nath Thakur
Harendra Nath Thakur | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 1, 2019, 7:08 PM IST
मध्य प्रदेश के खंडवा में भी एक दंगल गर्ल है. माधुरी पटेल नाम की ये यंग रेसलर बुल्गारिया में खेले जा रहे जूनियर वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप में शामिल हो रही है. 43 किलो वर्ग के मुकाबले में वो सेमीफाइनल में पहुंच गयी है. बेटी की कामयाबी पर सारा गांव खुश है और अब दुआ कर रहा है कि बेटी गोल्ड मैडल लेकर ही लौटे.

सेमिफाइनल में पहुंची माधुरी
माधुरी जब लौटेगी तब तो उसका स्वागत होगा ही, उससे पहले सेमीफाइनल में पहुंचने पर ही गांव में जश्न शुरू हो गया है. युवा पहलवान माधुरी पटेल खंडवा के बोरगांव की रहने वाली है. बुल्गारिया में चल रही वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियन शिप में वो प्री क्वार्टर फाइनल में उज्बेकिस्तान और अजरबैजान की महिला पहलवान को पछाड़कर सेमीफाइनल मुकाबले में पहुंच गयी ण्है.

माधुरी अभी 16 साल की हैं


गांव में बंटी मिठाई
दंगल गर्ल माधुरी ने 43 किलो वर्ग में अपनी प्रतिद्वंद्वी अजरबैजान की हाशिमोवा को चित किया. जैसे ही माधुरी ने मुकाबला जीता गांव में ढोल-ताशे बजने लगे और मिठाई बंटने लगी.
माधुरी सेमि फायनल में पहुंचीं तो गांव वाले नाचे-गाए
Loading...

पिता का सपना बेटी ने पूरा किया
माधुरी के पिता जगदीश पटेल पहलवान बनना चाहते थे. लेकिन ग़रीबी के कारण वो अपना सपना पूरा नहीं कर सके. उन्होंने अपनी सारी मेहनत और बागवानी अपनी बेटी को सींचने में लगा दिया. उन्होंने माधुरी को वो सारी सुविधाएं और ट्रेनिंग मुहैया करायीं जो उसके लिए ज़रूरी थीं. अब सबको वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप के जूनियर वर्ग के मुकाबलों का इंतज़ार है. सब माधुरी को जीतते देखना चाहते हैं.

ये भी पढ़ें-नियमित और बहाल होंगे मध्य प्रदेश के संविदा कर्मचारी


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 1, 2019, 5:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...