कर्ज के बोझ तले फिर जिंदगी से हारा किसान, तीन दिनों में दो किसानों ने की खुदकुशी

सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो

मध्य प्रदेश में किसानों का जिंदगी से हारने का सिलसिला फिर शुरू हो गया है. प्रदेश के खंडवा जिले में तीन दिनों के भीतर दो किसानों ने मौत को गले लगा लिया. यहां पहले भी आधा दर्जन से ज्यादा किसान खुदकुशी की कोशिश कर चुके है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश में किसानों का जिंदगी से हारने का सिलसिला फिर शुरू हो गया है. प्रदेश के खंडवा जिले में तीन दिनों के भीतर दो किसानों ने मौत को गले लगा लिया. यहां पहले भी आधा दर्जन से ज्यादा किसान खुदकुशी की कोशिश कर चुके है.

ताजा मामला जिले के खालवा पुलिस थाने के तहत आने वाले खारकला गांव का है. यहां किसान डोंगरू ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी. बताया जा रहा है कि डोंगरू को दो बार से फसल चौपट हो रही थी. इस वजह से वह काफी परेशान था. उसकी खुदकुशी के पीछे भी इसी को वजह माना जा रहा है.

दो दिन पहले ही ग्राम निशानिया के किसान व भाजपा अजा मोर्चा मंडल अध्यक्ष गणेश चाकरडे (47) ने ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली थी. गणेश पर दो बैंकों का करीब तीन लाख रुपए का कर्ज होना बताया गया है.



मृतक गणेश के दो लड़के और दो लड़कियां हैं. गणेश और उसके भाई के पास संयुक्त रूप से 16 एकड़ जमीन है.
गणेश के बेटे ने पिता की मौत के बाद बताया था कि उन पर दो लाख रुपए भारतीय स्टेट बैंक और एक लाख रुपए बैंक ऑफ इंडिया हरसूद शाखा का कर्ज था. जिसे वो फसल चौपट होने के कारण चुका नहीं पा रहे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज