मिसाल: महिला कलेक्टर ने अपनी बेटी का आंगनबाड़ी में कराया दाखिला
Khandwa News in Hindi

खंडवा कलेक्टर तन्वी सुन्द्रियाल ने अपनी डेढ़ साल की बच्ची का आंगनबाड़ी में दाखिला करवाकर लोक सेवा की एक अनोखी मिसाल पेश की है.

  • Share this:
माता-पिता अच्छी शिक्षा देने के लिए अपने बच्चों का एडमिशन महंगे निजी स्कूलों में कराने में लगे हुए, वहीं वहीं खंडवा कलेक्टर तन्वी सुन्द्रियाल ने अपनी डेढ़ साल की बच्ची का आंगनबाड़ी में दाखिला करवाकर लोकसेवा की एक अनोखी मिसाल पेश की है. कलेक्टर तन्वी सुन्द्रियाल चाहतीं तो अपनी बेटी को सभी सुविधाओं वाले प्राइवेट प्ले भी चुन सकती थी, लेकिन उन्होंने इससे परहेज करते हुए अपनी बच्ची का दाखिला आंगनबाड़ी में करवाया.

जिलाधिकारी तन्वी सुन्द्रियाल ने सरकारी सिस्टम पर जताया भरोसा

मध्य प्रदेश के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी व खंडवा की कलेक्टर तन्वी सुन्द्रियाल आज समाज के उन बड़े और अमीर लोगों के लिए मिसाल बन गई हैं, जो अपने बच्चों को निजी और बड़े नाम वाले स्कूलों में पढ़ाने को अपनी शान समझते हैं. जिलाधिकारी तन्वी सुन्द्रियाल ने सरकारी सिस्टम पर भरोसा जताते हुए अपनी डेढ़ साल की बेटी पंखुड़ी का घर से 2 किमी दूर आंगनबाड़ी में दाखिला करवाया है. कलेक्टर की बेटी पंखुड़ी आंगनबाड़ी में पढ़ने जाती है.



आंगनबाड़ी के गुणवत्ता में जल्द होगा सुधार
कलेक्टर तन्वी सुन्द्रियाल का कहना है की जिले के समस्त आंगनबाड़ी की गुणवत्ता में सुधार लाने का काम जल्द शुरू किया जाएगा, इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में आंगनबाड़ी स्कूल रिडेशन मॉडल के रूप में नए शिक्षण सत्र में तैयार किए जाएंगे, ताकि यहां बच्चों को बेसिक ज्ञान मिल सके.

क्लेक्टर की बेटी आंगनबाड़ी में बैठकर ले रही शिक्षा

तन्वी सुन्द्रियाल के बेटी पंखुड़ी बच्चों की तरह आंगनबाड़ी में बैठकर पढ़ाई करती है. आंगनबाड़ी में हर वो चीज सीख रही है, जो दूसरे बच्चे सीख रहे हैं. आंगनबाड़ी में वह सभी बच्चों के साथ-साथ कार्यकर्ता और सहायिका के साथ भी घुल मिल गई है. लोक सेवक के रूप में कलेक्टर के इस पहल की जगह सराहना हो रही है.

यह भी देखें- VIDEO: पुलिसकर्मियों ने पेश की मानवता की मिसाल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading