नागिन के डसने से चार लोगों की हुई मौत पर जागा प्रशासन, मिलेगा चार-चार लाख का मुआवजा

आरूद गांव में नागिन के आतंक और उसके काटने से उससे हो रही मौत के मामले में न्यूज़ 18 पर खबर प्रकाशित और प्रसारित की गई थी.

  • Share this:
खंडवा के आरूद गांव में नागिन के आतंक और उसके काटने से उससे हो रही मौत के मामले में न्यूज़ 18 पर खबर प्रकाशित और प्रसारित की गई थी. जिसके बाद खंडवा जिला प्रशासन ने मामले में एक्शन लिया है. खंडवा कलेक्टर तन्वी सुन्द्रियाल ने वन विभाग और राजस्व की टीम को जांच के लिए गांव भेजा है. इतना ही नहीं नागिन के आतंक का शिकार हुए सभी चार मृतकों के परिजनों को राजस्व प्रकरणों के तहत चार-चार लाख रुपये का मुआवजा भी दिया जाएगा. कलेक्टर के आदेश के बाद वन विभाग और पंधाना थाने से पुलिसकर्मी आरूद गांव पहुंचे और ग्रामीणों से चर्चा की. वहीं, गांव में नागिन का दहशत अभी भी लोगों में बना हुआ है, जिस कारण लोग आज भी भजन-पूजन में जुटे रहे

चार लोगों की हो चुकी है मौत-

नागिन के काटने से अबतक 4 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं करीब एक दर्जन लोग समय पर इलाज मिलने के चलते बाल-बाल बच गए. ये नागिन इंसानो के साथ ही साथ मवेशियों को भी अपना शिकार बना रही है. लिहाजा अब ग्रामीणों ने अपने पालतू जानवरों को खेत में खुला नहीं छोड़ रहे हैं, उसे अपने घरों पर ही बांध के रख रहे हैं. आरूद गांव के लोग इसे दैवीय प्रकोप मानने लगे हैं और इस नागिन से बचने के लिए नाग देवता के मंदिर में पूजा-पाठ शुरू हो गई. लोग नाग देवता के मंदिर में बकायदा भोग लगाकर भजन-कीर्तन कर रहे हैं.



नागिन से मुक्ति के लिए पूजा-पाठ का सहारा-
एक-एक कर लोगों की हो रही मौत से पूरे गांव में सन्नाटा पसर गया है. बहरहाल, लोगों का मानना है कि नाग देवता की पूजा से इस नागिन का आंतक से लोगों को निजात मिलेगी. अब देखना यह की इस पूजा-अर्चना के बाद ग्रामीणों के अंदर फैले सांप के इस भय का अंत होता है या नहीं.

ये भी पढ़ें- शर्मनाक! घर में सो रही नाबालिग का अपहरण, जंगल में ले जाकर किया रेप

ये भी पढे़ं- शादी समारोह में आए चार बच्चों की तालाब में डूबने से मौत, खुशियां मातम में बदली
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज