लाइव टीवी

अयोध्या पर फैसले के बाद खंडवा में 3 दिनों के लिए इंटरनेट बंद, दमोह में निकली सद्भावना रैली

News18 Madhya Pradesh
Updated: November 9, 2019, 8:58 PM IST
अयोध्या पर फैसले के बाद खंडवा में 3 दिनों के लिए इंटरनेट बंद, दमोह में निकली सद्भावना रैली
अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद एमपी के दमोह में सर्वसमाज ने सद्भावना रैली निकाली.

अयोध्या (Ayodhya) पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला (Supreme Court Ayodhya Verdict) आने के बाद मध्य प्रदेश के दमोह (Damoh) में जहां सद्भावना रैली निकाली गई, वहीं खंडवा (Khandwa) में एहतियातन 3 दिनों के लिए इंटरनेट पर पाबंदी (Internet Ban) लगा दी गई है.

  • Share this:
खंडवा/दमोह. अयोध्या (Ayodhya) में राम जन्मभूमि (Ram janam bhoomi) जमीन विवाद पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अपना फैसला सुना दिया है. इस फैसले को लेकर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल समेत तमाम प्रमुख शहरों और जिला मुख्यालयों में सुरक्षाबलों को अलर्ट किया गया था. सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद कहीं माहौल न बिगड़े, इसके लिए पुलिस-प्रशासन का पूरा बंदोबस्त किया गया था. फैसले के बाद कई शहरों में लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर खुशी जताई. दमोह (Damoh) जिले में फैसले के आने की खुशी में सर्वसमाज ने सद्भावना रैली निकाली. वहीं, मुस्लिम छात्र संगठन सिमी (SIMI) की गतिविधियों के कारण चर्चित रहे खंडवा (Khandwa) जिले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद 3 दिनों के लिए इंटरनेट पर पाबंदी लगा दी गई है.

संवेदनशील जिला रहा है खंडवा
अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद खंडवा में जिला प्रशासन ने एहतियातन इंटरनेट सेवाएं तीन दिन के लिए बंद कर दी हैं. सिमी का गढ़ होने के कारण खंडवा जिला हमेशा से संवेदनशील रहा है. शनिवार की सुबह सोशल मीडिया पर अयोध्या फैसले को लेकर की गई टिप्पणी के बाद जिला प्रशासन ने यह कदम उठाया है. इस निर्देश के तहत खंडवा में 9 से 11 नवंबर तक इंटरनेट सेवाएं बंद रहेंगी. इधर, शनिवार को दिनभर शहर में यातायात सेवाएं भी प्रभावित रहीं. खंडवा से इंदौर, खरगोन जाने वाली एक भी बस नहीं चली. लिहाजा पूरा बस स्टैंड दिनभर सूना रहा. शहर की अधिकांश दुकानें भी दिनभर बंद रहीं.

दमोह में निकली सद्भावना रैली

अयोध्या पर फैसला आने के बाद दमोह जिले में सर्वसमाज ने सद्भावना रैली निकाली, जिसमें विभिन्न धर्म और संप्रदाय के लोगों सहित भाजपा और कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता शामिल हुए. पुलिस-प्रशासन के कई वरिष्ठ अधिकारियों ने भी इस रैली में शिरकत की. जुलूस में शामिल विभिन्न धर्मों के युवाओं ने इस मौके पर कहा कि माहौल खराब करने वाली ताकतों ने आज मुंह की खाई है. सुप्रीम कोर्ट का फैसला गंगा-जमुनी तहजीब का संदेश देने वाला है. यह देश की एकता और भाईचारे की भावना को और मजबूत करेगा. राजनीतिक दलों के नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों ने भी रैली के आयोजन की सराहना की. कलेक्टर तरुण राठी ने कौमी एकता की मिसाल पेश करने वाली रैली के आयोजन के लिए सर्वसमाज को धन्यवाद दिया.

यह है सुप्रीम कोर्ट का फैसला
आपको बता दें कि सर्वोच्च अदालत ने अपने फैसले में राम जन्मभूमि की पूरी विवादित जमीन पर रामलला विराजमान का हक माना है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में विवादित जमीन पर रामलला का दावा स्वीकार किया है. साथ ही इस जमीन पर मंदिर निर्माण की रूपरेखा तैयार करने का निर्देश केंद्र सरकार को दिया है. कोर्ट ने कहा है कि केंद्र सरकार मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने में ट्रस्ट बनाए. इस ट्रस्ट के सदस्यों का नाम भी केंद्र सरकार को ही तय करने को कहा गया है.
Loading...

(रिपोर्ट- हरेंद्र ठाकुर/धर्मेश पांडेय)

ये भी पढ़ें -

अयोध्या पर सबसे बड़े फैसले के दिन भोपाल के इन 'शांतिदूतों' ने पेश की अनोखी मिसाल

CM कमलनाथ ने रद्द किए अपने कार्यक्रम, प्रदेश के हालात पर नज़र

Ayodhya Verdict : सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर जानिए आपके नेताओं ने क्या कहा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खंडवा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 8:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...