Home /News /madhya-pradesh /

ज्योतिरादित्य सिंधिया का जुदा अंदाज, आदिवासी कलाकारों के साथ जमकर थिरके, कमलनाथ पर बरसे

ज्योतिरादित्य सिंधिया का जुदा अंदाज, आदिवासी कलाकारों के साथ जमकर थिरके, कमलनाथ पर बरसे

बुरहानपुर में जनसभा के दौरान केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया आदिवासी कलाकारों के रंग में रंग गए. (Twitter)

बुरहानपुर में जनसभा के दौरान केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया आदिवासी कलाकारों के रंग में रंग गए. (Twitter)

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया रविवार को खंडवा लोकसभा उपचुनाव के मद्देनजर बुरहानपुर पहुंचे. यहां उनके स्वागत में आदिवासी नृत्य हो रहा था. ये देख सिंधिया खुद को रोक नहीं सके. उन्होंने आदिवासी कलाकारों के साथ जमकर डांस किया. उनके साथ मध्य प्रदेश के मंत्री तुलसी सिलावट भी थे.

अधिक पढ़ें ...

    बुरहानपुर. केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया रविवार को जुदा अंदाज में दिखाई दिए. उन्होंने बुरहानपुर में आदिवासी कलाकारों के साथ जमकर डांस किया. दरअसल, सिंधिया यहां डोईफोड़िया में चुनावी सभा को संबोधित करने आए थे. उनके स्वागत में आदिवासी कलाकार नृत्य कर रहे थे. ये देख नागरिक विमानन मंत्री सिंधिया खुद को रोक नहीं सके और उनके रंग में रंग गए. इस दौरान उनके साथ मध्य प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट भी थे.

    गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में खंडवा लोकसभा सहित 3 विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को मतदान होना है. सिंधिया इसके मद्देनजर ही बुरहानपुर आए थे. उन्होंने जिले के खकनार के डोईफोड़िया गांव में लोकसभा प्रत्याशी ज्ञानेश्वर पाटिल के लिए जनता का समर्थन मांगा. अपने संबोधन में उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर भी निशाना साधा.

    कमलनाथ पर साधा निशाना

    सिंधिया ने कहा- वह व्यक्ति कहता है कि सरकार चुरा ली. जिनके शासनकाल में चोरों का संग्रह वल्लभ भवन बन गया था. भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया था. लूट प्रदेश बन गया था.कोरोना काल में बाएं तरफ सलमान खान और दाएं तरफ जैकलिन फर्नांडिज के साथ कमलनाथ को फोटो खिंचवाने का समय था, जनता के लिए नहीं था. तब लॉकडाउन नहीं लगा था, लेकिन कमलनाथ लॉकडाउन में चले गए थे.

    नंदू भैया को दें सच्ची श्रद्धांजलि

    सिंधिया ने यहां मंच से कहा कि अगर अपने नंदू भैया को सच्ची श्रद्धांजलि देना है तो कमल के फूल पर बटन दबाएं. क्योंकि, यह कोई राजनीतिक चुनाव नहीं है. कमल के फूल का बटन दबाकर यह याद रखना है कि हम उस डिब्बे का बटन नहीं नंदू भैया के हृदय का बटन दबा रहे हैं. आपसे हमारा अतीत का संबंध है. मेरे पूर्वजों ने बाजीराव पेशवा की समाधि बनाई थी.

    Tags: Bypolls, Jyotiraditya Scindia, Khandwa news, Mp news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर