लाइव टीवी

खंडवा : दम तोड़ चुकी कावेरी नदी होगी पुनर्जीवित, प्रशासन के साथ दमखम से जुटे लोग

Harendra Nath Thakur | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 1, 2019, 7:58 AM IST

जिला प्रशासन ने जल संग्रहण की दिशा में प्रयास करते हुए कावेरी नदी को पुनर्जिवित करने की योजना बनाई है.

  • Share this:
कभी खंडवा की जीवन दायिनी कही जाने वाली कावेरी नदी आज पूरी तरह से दम तोड़ चुकी है. जिस कारण खंडवा और उसके आसपास के सैकड़ों गांव के लोगों को जल संकट का सामना करना पड़ है. लेकिन, अब जिला प्रशासन ने जल संग्रहण की दिशा में प्रयास करते हुए कावेरी नदी को पुनर्जीवित करने की योजना बनाई है.

करीब 54 किलोमीटर की लंबाई के प्रवाह क्षेत्र वाली नदी लुप्त होने के कगार पर खड़ी हो गई है. इस कावेरी नदी से न सिर्फ आसपास के क्षेत्र में कृषि भूमि सिंचित होती थी, बल्कि क्षेत्र का वाटर लेवल भी सामान्य बना रहता था. आस-पास के सैकड़ों गांव के लोगों को नदी की वजह से कभी जल संकट का सामना नहीं करना पड़ा था. लेकिन लोगों की लापरवाही ने इस नदी को ही संकट में डाल दिया.

नदी को पुनर्जीवित करने की योजना-

पिछले कई वर्षों से इस नदी के सूखने के कारण सैकड़ों गांव में किसानों के सामने जल संकट और खेती की समस्या खड़ी हो गई है. लिहाजा, खंडवा जिला प्रशासन ने इस नदी को रिचार्ज कर पुनर्जीवित करने का जिम्मा उठाया है. जिला प्रशासन ने नदी के कैचमेंट एरिया में सैकड़ों कंटूर, चेकडेम, स्टॉपडेम का निर्माण करवाया. जहां वर्षा जल संरक्षित कर इस नदी को पुनर्जीवित किया जाएगा.

वर्षा जल होगी संरक्षित-

जिला प्रशासन ने पंचायतों के सहयोग से न सिर्फ कावेरी नदी को पुनर्जीवित करने का काम पूरा किया, बल्कि रास्ते में आने वाले तालाब, पोखर को भी जल संग्रहण लायक बनाया है. वाटर लेवल रिचार्ज की इस पहल से अनुमानित 9018 हेक्टेयर मीटर व्यर्थ बहने वाले बारिश के पानी को संरक्षित किया जा सकेगा. इस कारण किसानों के चेहरे पर खुशहाली साफ तौर पर देखी जा सकती है.

ये भी पढ़ें- ऑनलाइन ठगी- न OTP मांगी न कोई जानकारी, उड़ा दिए 75 हजार
Loading...

ये भी पढ़ें-सीएमओ के साथ मारपीट करने वाले बीजेपी नेता पहुंचे जेल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खंडवा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 1, 2019, 7:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...