एमपी: मंत्री चिटनीस के गृहनगर में बच्चे पोषण आहार से वंचित
Khandwa News in Hindi

एमपी: मंत्री चिटनीस के गृहनगर में बच्चे पोषण आहार से वंचित
फोटो: ग्राम आरोग्य केंद्र (न्यूज18 हिंदी/ईटीवी)

मध्यप्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस के गृहनगर बुरहानपुर के आदिवासी बच्चों को पोषण आहार नहीं मिल रहा है. आदिवासी बाहुल्य गांवों की आंगनवाडी केंद्रों में कई दिनों से बच्चों को पोषण आहार नहीं बांटा गया है.

  • Share this:
मध्यप्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस के गृहनगर बुरहानपुर के आदिवासी बच्चों को पोषण आहार नहीं मिल रहा है.

आदिवासी बाहुल्य गांवों की आंगनवाडी केंद्रों में कुपोषण से निपटने के लिए बांटा जाने वाला पोषण आहार कई दिनों से बच्चों को नहीं बांटा गया है. नेपानगर के गांव डांगुर्ला में तो पिछले 57 दिनों से बच्चों को ना तो नाश्ता मिला और ना ही पोषण आहार दिया गया.

कुपोषण से जंग सुपोषण के संग, महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस के गृह जिले बुरहानपुर की सभी आंगनवाडी केंद्रों में यह जुमला आसानी से देखा जा सकता है. लेकिन आदिवासी इलाकों में जहां सबसे ज्यादा बच्चे कुपोषण के शिकार होते हैं, वहां पोषण आहार वितरण के बुरे हाल हैं.



ग्रामीणों का कहना एक तरफ विभाग कुपोषण से निपटने के लिए लाखों रुपए खर्च करने का दावा करता है, लेकिन ना तो बच्चों को आहार मिल रहा है और ना ही पोषण आहार तैयार करने वाले स्व सहायता समूहों को उनके महेनताने का नियमित भुगतान हो रहा है.
डांगुर्ला आंगनवाड़ी केंद्र में दुर्गा स्व सहायता समूह बच्चों को नाशता व पोषण आहार देता था, लेकिन पिछले तीन साल से उसके रसोईये को मानदेय का भुगतान नहीं होने से 29 मार्च से इस समूह ने बच्चों को नाश्ता और पोषण आहार देना बंद कर दिया. मामले के मीडिया में आने पर महिला बाल विकास विभाग लीपापोती में लग गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज