होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Navratra 2022: बुरहानपुर में भंडारे में केले के पत्तों पर परोसा गया प्रसाद, पर्यावरण संरक्षण का दिया गया संदेश

Navratra 2022: बुरहानपुर में भंडारे में केले के पत्तों पर परोसा गया प्रसाद, पर्यावरण संरक्षण का दिया गया संदेश

बुरहानपुर के सभी जगह नवमी भंडारों में केले के पत्ते पर भक्तों को प्रसाद वितरण 

बुरहानपुर के सभी जगह नवमी भंडारों में केले के पत्ते पर भक्तों को प्रसाद वितरण 

बुरहानपुर में केले की खेती 22 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में की जाती है. पर्यावरण सरंक्षण के लिए भंडारे में पत्तल या प्लास्ट ...अधिक पढ़ें

    अंकुश मोरे

    बुरहानपुर. मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में नवदुर्गा के नौवें दिन महानवमी के अवसर पर जगह-जगह विशाल भंडारे का आयोजन किया गया. इस भंडारे की खास बात रही कि यहां केले के पत्तों पर भक्तों को प्रसाद वितरण किया गया. दरअसल बुरहानपुर में केले की खेती 22 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में की जाती है. पर्यावरण सरंक्षण के लिए भंडारे में पत्तल या प्लास्टिक के बजाय केले के पत्तों पर प्रसाद वितरण किया गया. यहां तक कि दो से तीन हजार लोगों के लिए आयोजित भंडारे के लिए भी केले के पत्ते ट्रैक्टर-ट्रॉली में भरकर लाया गया, जिस पर उन्हें प्रसाद वितरण किया गया.

    हिंदू संस्कृति के अनुसार नवरात्र, श्रावण मास, कार्तिक माह, पूर्णिमा, अमावस्या सहित अन्य प्रमुख धार्मिक पर्व व त्योहारों पर होने वाले भंडारे में केले के पत्ते पर प्रसाद वितरण किया जाता है. केले के पत्ते प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होने के कारण लोग पारिवारिक समारोह में प्लास्टिक की बजाय इनका उपयोग करते हैं.

    बीजेपी के युवा नेता गजेंद्र पाटील ने कहा कि केले के पत्ते हिंदू संस्कृति का प्रतीक है. हम पूजा और अन्य शुभ आयोजन में केला के पत्ते का उपयोग करते हैं, इसलिए इन सभी बातों को ध्यान में रखकर नवरात्र के अवसर पर कराए गए भंडारे में केले के पत्तों का उपयोग किया गया.

    बता दें कि दक्षिण भारत में केले के पत्ते पर भोजन करने का प्रचलन है. केले के पत्ते पर खाने को धार्मिक मान्यता से भी जोड़कर देखा जाता है. दक्षिण भारत की यह पुरानी परंपरा है. यहां के रेस्तरां और होटलों में भी केले के पत्ते पर खाना परोसा जाता है. धार्मिक मान्यता के अलावा स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी केले पर खाना लाभदायक है. साथ ही इससे पर्यावरण को भी हानि नहीं पहुंचती.

    बुरहानपुर जिले में केले की फसल की बहुतायत होने से कृषि विभाग किसानों व पर्यावरण संरक्षण को लेकर यहां लगातार कार्यक्रम आयोजित करता है. ऐसा कर वो किसानों को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ उन्हें सम्मानित भी करता है.

    Tags: Banana Leaves, Mp news, Navratri Celebration, Navratri festival

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें