सिंहस्थ: होमगार्ड के जवान बने श्रद्धालुओं का सहारा, अब तक 200 से अधिक की बचाई जान

एक रिवर एम्बुलेंस भी नर्मदा नदी में तैनात है, जिससे घाटों पर कोई श्रृद्धालु के बीमार होने पर उसे तत्काल निकटतम चिकित्सा केन्द्र तक पहुंचाने की व्यवस्था की जाती है.
एक रिवर एम्बुलेंस भी नर्मदा नदी में तैनात है, जिससे घाटों पर कोई श्रृद्धालु के बीमार होने पर उसे तत्काल निकटतम चिकित्सा केन्द्र तक पहुंचाने की व्यवस्था की जाती है.

एक रिवर एम्बुलेंस भी नर्मदा नदी में तैनात है, जिससे घाटों पर कोई श्रृद्धालु के बीमार होने पर उसे तत्काल निकटतम चिकित्सा केन्द्र तक पहुंचाने की व्यवस्था की जाती है.

  • Pradesh18
  • Last Updated: May 15, 2016, 8:54 PM IST
  • Share this:
सिंहस्थ के दौरान खंडवा जिले के ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग दर्शन के लिए आने वाले श्रृद्धालुओं की मदद के लिए होमगार्ड जवान सबसे बड़ा सहारा बन रहे हैं. ये जवान अब तक तकरीबन 200 से ज्यादा लोगों की जान बचा चुके हैं.

दरअसल, जिला प्रशासन की ओर से नदियों के विभिन्न घाटों पर और ओंकारेश्वर के महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों पर लोगों की भीड़ को देखते हुए उनकी सुरक्षा व मदद के लिए होमगार्ड के जवान तैनात किए गए हैं.

होमगार्ड के जिला कमाण्डेंट महेश हनोतिया ने बताया कि, 15 अप्रैल से ही जवान नियमित रूप से अपनी सेवाएं दे रहे हैं.



उन्होंने बताया कि एक रिवर एम्बुलेंस भी नर्मदा नदी में तैनात है, जिससे घाटों पर कोई श्रृद्धालु के बीमार होने पर उसे तत्काल निकटतम चिकित्सा केन्द्र तक पहुंचाने की व्यवस्था की जाती है.
इसी कड़ी में 15 अप्रैल से अब तक होमगार्ड के जवानों ने करीब 121 से ज्यादा लोगों को आपातकालीन स्थिति में नर्मदा के घाटों से रिवर एम्बुलेंस तक पहुंचाया और उनके इलाज की तत्काल व्यवस्था कराई गई.

उन्होंने बताया कि जैसे ही किसी श्रृद्धालु की तबियत खराब होने की सूचना मिलती है, होमगार्ड के जवान स्ट्रेचर लेकर दौड़ पड़ते हैं और मरीज को एम्बुलेंस में पहुंचा देते हैं, जहां उसका समुचित उपचार हो जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज