लाइव टीवी

VIDEO: चलती ट्रेन में महिला ने दिया बच्चे को जन्म, ऐसे बची जान
Khandwa News in Hindi

Harendra Nath Thakur | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 28, 2018, 2:12 PM IST

मुंबई से चलकर बिहार जाने वाली ज्ञान गंगा एक्सप्रेस ट्रेन में एक महिला द्वारा बच्चे को जन्म देने के बाद भी रेलवे ने ट्रेन रोकने की जहमत नहीं उठाई. ट्रेन में ड्युटी पर तैनात जीआरपी के दो जवानों ने मध्य प्रदेश के खंडवा में ट्रेन रोककर जच्चा-बच्चा को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया.

  • Share this:
मुंबई से चलकर बिहार जाने वाली ज्ञान गंगा एक्सप्रेस ट्रेन में महिला द्वारा बच्चे को जन्म देने के बाद भी रेलवे ने ट्रेन रोकने की जहमत नहीं उठाई. ट्रेन में ड्युटी पर तैनात जीआरपी के दो जवानों ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए मध्य प्रदेश के खंडवा में ट्रेन रोककर जच्चा-बच्चा को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया. चिकित्सकों के अनुसार फिलहाल दोनों स्वस्थ है और खतरे से बाहर है.

दरअसल, मुंबई से चलके छपरा बिहार जाने वाली ज्ञान गंगा एक्सप्रेस ट्रेन में बिहार की एक महिला यात्री को भुसावल स्टेशन के पास प्रसव पीड़ा हुई. महिला के पति ने ट्रेन रोकने और डॉक्टर की व्यवस्था करने की रेलवे स्टाफ से गुजारिश की, लेकिन किसी ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया. इटारसी से पहले ट्रेन का कहीं भी स्टॉपेज नहीं था. दर्द से चीखती महिला की मदद करने ट्रेन के डिब्बों में ड्यूटी देने वाले पुलिस के दो जवानों ने निभाई.

चादर की आड़ में चलती ट्रेन में महिला का प्रसव करवाया गया. रात तीन बजे ट्रेन खंडवा स्टेशन पहुंची तब महिला को ट्रेन से उतारकर पुलिस के जवानों ने जिला अस्पताल में जच्चा-बच्चा को भर्ती करवाया. जीआरपी पुलिसकर्मी अफराज मिर्जा ने बताया कि महिला ट्रेन में दर्द से करहा रही थी, और उसका पति कई बार अधिकारियों को ट्रेन रोकने या चिकित्सक को बुलाने की गुहार लगा रहा था, लेकिन रेलवे प्रशासन ने उसकी सुनवाई नहीं की. अफराज ने बताया कि ट्रेन में महिला ने बच्चे को जन्म दिया, जिसके बाद रात तीन बजे उसे अस्पताल में भर्ती कराया और चिकित्सा की पूरी व्यवस्था करवाई.

जननी और उसका पति अब पुलिसकर्मियों को भगवान का रूप बताकर उनका धन्यवाद कर रहे हैं. महिला के पति का कहना है कि अगर दोनों पुलिस वाले ट्रेन में नहीं होते तो शायद उनकी पत्नी और बच्चा इस दुनिया में नहीं रह पाता. बहरहाल, पीड़ित महिला का दर्द और बच्चे की किलकारी सुनकर रेलवे का दिल भले ही नहीं पिघला, लेकिन वर्दीधारी इन जवानों ने जो फर्ज निभाया है वह अपने आप में मानवता की अनूठी मिसाल है.



यह भी पढ़ें-  आदिवासियों की योजना में पूर्व मंत्री की पत्नी थीं पर्यवेक्षक, CM कमलनाथ ने लिया ये एक्शन

यह भी पढ़ें-  प्रेशर पाइप फटने से सौ फीट हवा में उछले किसान, एक की मौत, तीन घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खंडवा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 28, 2018, 1:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर