खरगोन में फर्जी तरीके से नियुक्त 18 आशा सहयोगियों को हटाया गया

नौकरी से हटाई गईं आशा कार्यकर्ता.

नौकरी से हटाई गईं आशा कार्यकर्ता.

खरगोन जिले के बड़वाह ब्लॉक में स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ 18 आशा सहयोगियों को पद से हटाने की बड़ी कार्रवाई हुई है. शासन स्तर पर हुई जांच में नियुक्ति प्रक्रिया में फर्जीवाड़े की पुष्टि के बाद सीएमएचओ वंदना खरे ने इन्हें पद से हटाने की बड़ी कार्रवाई की है.

  • Share this:
खरगोन जिले के बड़वाह ब्लॉक में स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ 18 आशा सहयोगियों को पद से हटाने की बड़ी कार्रवाई हुई है. शासन स्तर पर हुई जांच में नियुक्ति प्रक्रिया में फर्जीवाड़े की पुष्टि के बाद सीएमएचओ वंदना खरे ने इन्हें पद से हटाने की बड़ी कार्रवाई की है.



सनावद के पुरूषोत्तम सेन ने चयन प्रक्रिया में फर्जीवाडे़ की शिकायत कलेक्टर सहित वरिष्ठ अधिकारियों से शासन स्तर तक की थी, लेकिन कार्रवाई नहीं हो रही थी. शिकायतकर्ता ने आरटीआई के तहत प्रमाणित प्रतियों के आधार शिकायत की थी कि वर्ष 2013 में पदस्थ आशा सहयोगियों की नियुक्तियों मे फर्जीवाड़ा किया गया.



शिकायतकर्ता ने जनसुनवाई मे कलेक्टर आशोक कुमार वर्मा, सनावद दौरे पर पहुंची स्वास्थ्य विभाग की पीएस गौरी सिंह सहित स्वास्थ्य मंत्री रूस्तम सिंह तक से शिकायत की थी. नियुक्ति में फर्जीवाडे़ की लम्बे समय से शिकायत के बाद शासन स्तर पर हुई जांच के बाद बड़वाह ब्लॉक की 18 आशा कार्यकर्ताओं को पद से हटाने से हड़कंप मच गया है.





शिकायतकर्ता पुरूषोत्तम सेन का कहना है आरटीआई से ही फर्जीवाड़े की जानकारी मिली थी. 18 सहयोगी आशा कार्यकर्ताओं को तो हटा दिया गया है, लेकिन नियम और प्रक्रिया विरूद्ध काम करने वाले दोषी अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाई होनी चाहिये. जिला स्वास्थ्य अधिकारी का कहना है कि शासन स्तर पर जांच और निर्देश पर सीएमएचओ ने कार्रवाई की है.
 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज