प्रेशर पाइप फटने से सौ फीट हवा में उछले किसान, एक की मौत, तीन घायल

गुरुवार को नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के ठेकेदार द्वारा सिंचाई परियोजना के लिए बीआर-2 में पानी छोड़ा गया था, जिसे देखने के लिए बड़ी संख्या में आस-पास के किसान मौके पर एकत्रित हुए थे. इस दौरान अचानक पाना का प्रेशर बढ़ने से वॉव टूट गया और पानी का 100 फीट तक का फव्वारा फूट पड़ा.

Ashutosh Purohit | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 28, 2018, 10:37 AM IST
Ashutosh Purohit | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 28, 2018, 10:37 AM IST
मध्य प्रदेश के खरगोन जिले के गोगांवा थाना इलाके में एक किसान की मौत का मामला सामने आया है. जिले के बहरामपुर टेमा गांव में गुरुवार को खरगोन उद्वहन सिंचाई परियोजना की बीआर-2 पाइप लाइन में पानी छोड़ने के दौरान अचानक प्रेशर से वॉल में लगी प्लेट और पाइप फटने से एक किसान की मौत हो गई, जबकि तीन किसान घायल हो गए. प्रेशर से वॉल और पाइप लाइन फटने से पानी के फव्वारे में वहां खड़े चारों किसान करीब 100 फीट की उंचाई तक हवा में उछल गए. हादसे में मृतक युवा किसान की पहचान 25 वर्षीय बेचान यादव के तौर पर हुई है.

हादसे में गंभीर रूप से घायल हुए तीन किसानों को उपचार के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया गया. किसान की मौत की खबर सुनते ही जिला अस्पताल में आस-पास के गांवों के आक्रोशित किसानों की भीड़ जमा हो गई. वहीं पुलिस द्वारा किसान की मौत का मामला दर्ज कर जांच करने की बात की जा रही है.



गुरुवार को नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के ठेकेदार द्वारा सिंचाई परियोजना के लिए बीआर-2 में पानी छोड़ा गया था, जिसे देखने के लिए बड़ी संख्या में आस-पास के किसान मौके पर एकत्रित हुए थे. इस दौरान अचानक पाना का प्रेशर बढ़ने से वॉव टूट गया और पानी का 100 फीट तक का फव्वारा फूट पड़ा. इस फव्वारे की चपेट में आने से वहां खड़े बेहरामपुर टेमा गांव के बेचान यादव की मौके पर ही मौत हो गई. हादसे में सुनील, सुभाष और अन्नु नामक तीन अन्य किसान गंभीर रूप से जख्मी है, जो जिला अस्पताल में उपचाराधीन है.

घटना की खबर मिलने के बार खरगोन के पूर्व भाजपा विधायक बालकृष्ण पाटीदार भी अस्पताल पहुंचे और मृतक व घायलों के परिवारों से मुलाकात की. उन्होंने घटना की जांच का आश्वासन दिया. हादसे के बाद पुलिस का कहना है कि घटना की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दे दी गई है, और मामले की जांच की जा रही है.

यह भी पढ़ें-  मंदसौर के किसानों से क्यों डरे हुए हैं मध्य प्रदेश के नेता?

यह भी पढ़ें-  MP: किसानों की मौत का सिलसिला जारी, आंदोलन के बीच कुएं में कूद कर दी जान
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...