अपना शहर चुनें

States

कपास के कम भाव से नाराज किसानों ने मंडी गेट पर जड़ा ताला

बावड़ी बस स्‍टैंड पर चक्‍काजाम का प्रयास करते किसान.
बावड़ी बस स्‍टैंड पर चक्‍काजाम का प्रयास करते किसान.

करीब दो घंटे चले हंगामे के दौरान आक्रोशित किसानों ने मंडी गेट पर ताला डाल दिया. मंडी गेट से किसानों का हुजूम नारेबाजी करता हुआ रैली के रूप में बावड़ी बस स्टॉप पहुंचा और चक्काजाम का प्रयास किया.

  • Share this:
मध्‍यप्रदेश में खरगोन की कपास मंडी में कपास के कम भाव मिलने से नाराज किसानों ने शुक्रवार देर शाम जमकर हंगामा किया. पहले कपास मंडी का गेट बंद कर दिया और फिर बावड़ी बस स्टैंड पर चक्काजाम करने का प्रयास किया. कपास खरीदी की नीलामी मुहूर्त के चंद घंटे बाद ही किसानों के हंगामे से चुनावी वर्ष में भाजपा सरकार की मुसीबत बढ़ सकती है.

आक्रोशित किसानों का कहना था की मंडी में आज से कपास खरीदी की नीलामी शुरू हुई. मुहूर्त में कपास का भाव 5200 रुपए रहा. बाद में उनकी उपज को समर्थन मूल्य में खरीदने के बजाय व्यापारी औने-पौने दाम (3900 से 4400 रुपए के बीच मनमर्जी) में खरीदी कर रहे थे. गुस्साए किसानों ने देर शाम मंडी स्थित मंडी सचिव कार्यालय के बाहर जमकर हंगामा और 'मुख्यमंत्री हाय-हाय, कृषि मंत्री हाय-हाय' के नारे लगाए.

करीब दो घंटे चले हंगामे के दौरान आक्रोशित किसानों ने मंडी गेट पर ताला डाल दिया. प्रशासनिक अमले और पुलिस बल की मौजूदगी में जैसे-तैसे किसानों को समझाइश देकर शांत किया गया, लेकिन मंडी गेट से किसानों का हुजूम नारेबाजी करता हुआ रैली के रूप में बावड़ी बस स्टॉप पहुंचा और चक्काजाम का प्रयास किया. हालांकि पुलिस बल ने चक्काजाम नहीं होने दिया, लेकिन कपास मंडी मे नीलामी के पहले ही दिन किसानों के सड़क पर उतरने से प्रशासन सकते में है.



इधर किसानों का कहना है कि सरकार ने किसानों के कपास का समर्थन मूल्य 5150 रुपए तय किया हुआ है, लेकिन आज कपास मुहूर्त बाद नीलामी में कुछ गाड़ियों को 5200 रुपए से अधिक में खरीदी करने के बाद कपास गीला बताकर भाव गिरा दिया गया और 3900 से 4000 रुपए का भाव तय कर दिया गया.
किसानों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि हमारी मांग है कि शासन द्वारा तय समर्थन मूल्य 5150 रुपए में कपास की खरीदी की जाए. किसानों ने चेताया कि समर्थन मूल्य से कम भाव में खरीदी की गई तो हम मंडी नहीं चलने देंगे और आंदोलन को मजबूर होंगे.

यह भी पढ़ें- कपास की खराब हो रही फसल ने बढ़ाई खरगोन के किसानों की चिंता

यह भी देखें- VIDEO: मवेशियों के चारे के काम आ रही है, टमाटर की फसल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज