कपास की खेती का जायजा लेने गडाघाट पहुंचा विदेशी प्रतिनिधिमंडल
Khargone News in Hindi

कपास की खेती का जायजा लेने गडाघाट पहुंचा विदेशी प्रतिनिधिमंडल
स्वागत समारोह के बाद कार्यक्रम में भाग लेते विदेशी मेहमान फोटो- ईटीवी

आदिवासी किसानों को कपास की फसल में कम लागत लगे इसके लिए काम कर रहे बीसीआई के काम का जायजा लेने के लिए मंगलवार को आदिवासियों के बीच विदेशी प्रतिनिधिमंडल गडाघाट पहुंचा. इसमें पांच देशों के प्रतिनिधि शामिल हैं.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के खरगोन जिले में कपास का उत्पादन बढ़ाने और आदिवासी किसानों को फसल में कम लागत लगे इसके लिए काम कर रहे बीसीआई के काम का जायजा लेने के लिए मंगलवार को आदिवासियों के बीच विदेशी प्रतिनिधिमंडल गडाघाट पहुंचा. इसमें पांच देशों के प्रतिनिधि शामिल हैं.

इस दौरान गडाघाट में विदेशी मेहमान ग्रामीणों ने ऑस्ट्रेलिया, लंदन, यूके, फिनलैंड और यूएई दुबई से पहुंचे विदेशी मेहमानों को परंपरागत रूप से ढोल मांदल की थाप पर जोरदार स्वागत किया.

इस अवसर पर लागत कम करने के लिए पेस्टीसाइड  का कम से कम उपयोग सहित कई आवश्यक सुझाव बीसीआई द्वारा दिए गए. इस दौरान विदेशी मेहमानों ने बीसीआई को अपनाने के बाद आदिवासियों के जीवन में समाजिक आर्थिक क्या बदलाव आए हैं जाना.



कपास यानी सफेद सोने के उत्पादन को देखकर विदेशी मंत्रमुग्ध हो गए. इस दौरान विदेशियों के दल ने आदिवासी संस्कृति को देखा और समझा. इस अवसर पर बीसीआई के भारत हेड ने मीडिया को बताया की कपास की फसल का उत्पादन लगातार कम लागत में करे.
किसान कपास की फसल लगाना नहीं छोड़ें इसके लिए बीसीआई ने अभियान चला रखा है. देश में साढे़ 6 लाख किसानों ने बीसीआई से जुड़कर अपना जीवन बदल लिया है. गौरतलब है की पिछले दिनों ईटीवी ने लगातार बंद होते काटन उधोग को लेकर प्रमुखता से खबर दिखाई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज