एनटीपीसी ने रेलवे को दिए 487 करोड़, विद्युत परियोजना के लिए बिछेगा 37 किमी ट्रैक

खरगोन जिले के सेल्दा गांव में निर्माणधीन वृहद ताप विद्युत परियोजना

खरगोन जिले के सेल्दा गांव में निर्माणधीन वृहद ताप विद्युत परियोजना

इस संयंत्र में 1320 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा. खास बात यह है की रेल्वे लाइन विहिन इस क्षेत्र में एनटीपीसी द्वारा कोयले के लिए रेल लाइन डाली जा रही है.

  • Share this:
खरगोन जिले के सेल्दा गांव में निर्माणधीन वृहद ताप विद्युत परियोजना का काम युद्ध स्तर पर जारी है. देश की सबसे आधुनिक अल्ट्रा क्रिटिकल तकनीक पर आधारित संयंत्र में कोयले से ऊर्जा का उत्पादन किया जाएगा. इस संयंत्र में 1320 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा. खास बात यह है की रेलवे लाइन विहिन इस क्षेत्र में एनटीपीसी द्वारा कोयले के लिए रेल लाइन डाली जा रही है. सनावद से सेल्दा के बीच रेल लाइन के लिए एनटीपीसी ने रेलवे को 487 करोड़ रुपए का भुगतान किया है.



करीब 10 हजार करोड़ रूपए की इस परियोजना का काम तेजी से चल रहा है और देश को 31 मार्च 2019 तक वृहद ताप विद्युत परियोजना की सौगात मिल जाएगी. यहां बनने वाली बिजली का 50 प्रतिशत हिस्सा प्रदेश को ही मिलेगा. परियोजना के 2019 तक पूर्ण होने के बाद यहां 1320 मेगावॉट बिजली का उत्पादन होगा. ये परियोजना वर्तमान अन्य परियोजनाओं के मुकाबले सबसे कम भूमि पर आकार लेने के साथ ही उच्च कार्य क्षमता वाली परियोजना है. इस परियोजना में अत्याधुनिक तकनीकी संसाधनों का उपयोग होने से कम कोयले में अधिक ऊर्जा उत्पादन होगा.



कोयले की आपूर्ति एनटीपीसी की झारखंड स्थित पकरी बरवाडिह कोयला खदान से होगी. परियोजना स्थल तक कोयले के परिवहन के लिए 37 किमी रेल लाइन का निर्माण किया जा रहा है. जिसकी कनेक्टिविटी सनावद रेलवे लाइन से होगी. परियोजना उत्पादित बिजली का 50 प्रतिशत यानि 660 मेगावॉट मप्र को तथा शेष 50 प्रतिशत अन्य राज्यों को उपलब्ध कराया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज