होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

MP by election: शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए उज्जैन में शराब की दुकानें 48 घंटे के लिए रहेंगी बंद

MP by election: शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए उज्जैन में शराब की दुकानें 48 घंटे के लिए रहेंगी बंद

महाराष्ट्र में ग्राम पंचायत चुनाव 15 जनवरी को कराने के लिए सारी तैयारी पूरी : राज्य निर्वाचन आयुक्त
 (प्रतीकात्मक तस्वीर)

महाराष्ट्र में ग्राम पंचायत चुनाव 15 जनवरी को कराने के लिए सारी तैयारी पूरी : राज्य निर्वाचन आयुक्त (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में होने जा रहे उपचुनाव (Bye election) को शांतिपूर्ण संपन्न कराने के लिए उज्जैन (Ujjain) के कलेक्टर ने जिले की तीन तहसीलों में 48 घंटे के लिए शराब की दुकानों (Liquor shops) को बंद रखने के आदेश दिये हैं. साथ ही मतगणना (Counting of votes) वाले दिन भी शराब की दुकान बंद रहेंगी.

अधिक पढ़ें ...
    उज्जैन. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में होने जा रहे उपचुनाव (Bye election) को शांतिपर्ण संपन्न कराने के लिए निर्वाचन आयोग (Election Commission) ने सभी पुख्ता इंतजाम कर रखे हैं. इसके साथ ही उज्जैन (Ujjain) ने जिला प्रशासन ने शांति पूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए उज्जैन जिले की तीनों तहसीलों की शराब की आठ दुकानों को 48 घंटे के लिए बंद करने का निर्णय लिया है.

    साथ ही, 10 नवंबर को (मतगणना) के दिन भी ये दुकान बंद रहेंगी. कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि जिले की फतेहाबाद, पंथपिपलई, तराना तहसील की पाट, बड़नगर की आंजनाखेड़ी, आमला, बड़गारा, जस्साखेड़ी और लोहारिया स्थित देशी-विदेशी शराब की दुकानें उपचुनाव वाले जिले इन्दौर, आगर और धार की सीमा से तीन किलोमीटर क्षेत्र पर हैं. यहां की शराब दुकानों को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं.

    MP By-Election: पोलिंग बूथ पहुंचे मतदान कर्मी की बिगड़ी तबीयत, हार्ट अटैक से मौत

    विधानसभा की 27 सीटों पर हो रहे हैं उपचुनाव
    मध्य प्रदेश में विधानसभा की 27 सीटों पर उप चुनाव के लिए मतदान होना है. इसके लिए वोटिंग तीन नवंबर को एक चरण में सभी जगहों पर होगी. मध्य प्रदेश में होने जा रहा यह उपचुनाव प्रदेश में सत्ता परिवर्तन भी कर सकता है, क्योंकि यह चुनाव भाजपा या फिर कांग्रेस की जीत- हार का समीकरण बदल कर रख देगा. यही कारण है कि कमलनाथ इस चुनाव को जीतकर दोबारा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री की गद्दी पर बैठना चाहते हैं. वहीं शिवराज सिंह कोई ऐसी कमी नहीं छोड़ना चाहते, जिससे कि उनके हाथ से सीएम की कुर्सी दोबारा निकल जाए.

    यही कारण है कि मध्य प्रदेश के उपचुनावों में दोनों पार्टियां वोटरों को लुभाने के लिए तरह-तरह के वादे कर रही हैं. साथ दोनों पार्टियों ने चुनाव प्रचार के लिए दिग्गज नेताओं को मैदान में उतारा है. अब 10 नवंबर को आने वाले चुनाव परिणाणों के बाद ही पता चल पाएगा कि मध्य प्रदेश में शिवराज की कुर्सी बची रहेगी या फिर कमलनाथ की वापसी होगी.

    Tags: BJP, Congress, Mp by election 2020, Ujjain news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर