मंडला: कलेक्टर ने नाव दुर्घटना मामले में दिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

झांजर घाट पर नाव डूबने से 5 लोगों की मौत के मामले में मंडला जिला कलेक्टर ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं. इसकी जांच निवास एसडीएम आशाराम मेसराम करेंगे.

Krishna Sahu | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 23, 2019, 11:07 AM IST
Krishna Sahu | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 23, 2019, 11:07 AM IST
नर्मदा नदी के झांजर घाट पर नाव डूबने से 5 लोगों की मौत के मामले में मंडला जिला कलेक्टर ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं. इसकी जांच निवास एसडीएम आशाराम मेसराम करेंगे. बता दें कि ये हादसा जिस घाट पर हुआ है वो अवैध था, वहीं से नाव का संचालन किया जा रहा था.

इसके अलावा जो नाविक था वो भी नाव चलाना सीख रहा था, जो सिवनी जिले का रहने वाला है. घटना के वक्त नाव भी काफी ओवरलोड थी, जिस वजह से ये हादसा हुआ. इन सब बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए जिला कलेक्टर ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं.

4 महिलाएं और एक बच्चे की नदी में डूबने से हुई थी मौत

घटना 20 जून की सुबह 7 बजे की है. नारायणगंज विकासखंड क्षेत्र अंतर्गत मेहगांव के पास नर्मदा नदी के झांजर घाट पर अचानक से नाव डूब गई थी. इसमें करीब 15 यात्री सवार थे. इसमें से 4 महिलाएं और एक बच्चा नदी में डूब गए थे, जिनका शव 36 घंटे बाद रेस्क्यू कर बाहर निकाला गया था. फिलहाल, इस पूरे हादसे की जांच शुरू हो गई है.

मामले में मंडला कलेक्टर जगदीश चंद्र जटिया ने कहा कि उन्होंने एसडीएम को जांच के आदेश दिए हैं, जिसमें सभी बिंदुओं पर जांच की जाएगी. उन्होंने कहा कि ये घाट किसके आदेश पर और किसके द्वारा संचालन किया जा रहा था, इसकी जांच की जाएगी. कलेक्टर की मानें तो इस घाट का विधिवत संचालन नहीं किया जा रहा था. मिली जानकारी के मुताबिक सिवनी से किसी के द्वारा इसका संचालन किया जा रहा था, जिसके बारे में सिवनी के कलेक्टर को भी कार्रवाई के लिए प्रस्ताव भेज दिया गया है.

ये भी पढ़ें:- मंडला नाव हादसा : 36 घंटे बाद मिलीं 2 लाशें, बाक़ी की तलाश जारी 

ये भी पढ़ें:- मंडला: नर्मदा नदी में नाव पलटी, 6 लोगों को सुरक्षित निकाला 5 लापता
First published: June 23, 2019, 10:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...