• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • OMG: एमपी के इस गांव में है अजगरों की बस्ती, संभलकर देखें सांपों का यह हैरतअंगेज Video

OMG: एमपी के इस गांव में है अजगरों की बस्ती, संभलकर देखें सांपों का यह हैरतअंगेज Video

MANDLA के इस अजगर दादर में हजारों अजगर हैं.

MANDLA के इस अजगर दादर में हजारों अजगर हैं.

Snake Village in MP: एक ही जगह पर आपको इतने तरह के अजगर दिख जाएंगे जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकते. छोटे से छोटे और इतने बड़े कि कभी आपने सोचा भी ना होगा. ये अजगर दादर 2 एकड़ में एरिया में फैला हुआ है.

  • Share this:

मंडला. मंडला में प्रसिद्ध कान्हा राष्ट्रीय उद्यान के साथ अब एक और पर्यटन स्थल पर्यटकों की पसंद बन चुका है. ये है अजगर दादर यानी अजगरों का पूरा गांव या कहें पूरी एक बस्ती. यहां हजारों की तादाद में अजगर हैं. अजगरों की ये बस्ती कान्हा के बफर जोन से लगे अंजनिया वन परिक्षेत्र के ककैया गांव में है.

1926 में आयी बाढ़ में ये जगह पोली हो गयी थी. तब से जीव जन्तुओं ने यहां अपना डेरा जमा लिया. 2014-15 में वन विभाग के प्रयास से ये जगह लोगों की नजर में आई . हजारों अजगरों को यहां एक साथ रेंगते देखा जा सकता है. न गांव वाले इन्हें परेशान करते हैं और न ही गांव वालों को कभी इन्होंने काटा.

कान्हा के बाद अजगर दादर
अजगर दादर मंडला जिले का दूसरा प्रमुख पर्यटन स्थल बन गया है. दुनिया में प्रसिद्ध कान्हा राष्ट्रीय उद्यान बाघों के कारण वन्य प्राणि प्रेमियों और पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहा है. अब इस अजगर दादर भी पर्यटकों में काफी उत्सुकता पैदा कर रहा है.

ये भी पढ़ें-Ujjain : पितृ पक्ष में क्षिप्रा तट पर online तर्पण, पंडे पोथी देख बता देते हैं आपके परिवार की 7 पीढ़ियां

अजगर देख सिट्टी-पिट्टी गुम
पर्यटक हमेशा नई और खतरनाक रोमांचक चीजें देखने के शौकीन होते हैं. इसलिए मंडला आते हैं हैं. पर्यटकों को यहां एक रोमांच का अनुभव होता है जिसे देखते ही सिट्टी पिट्टी गुम हो जाती है. यहां अजगरों को खुले आम आराम फरमाते देखा जा सकता है और वो भी एक दो नहीं बल्कि झुंड के झ

सर्दी में सेंकते हैं धूप
अजगर कोल्ड ब्लडेड होते हैं. इस स्थान पर ठंड के मौसम में बड़ी संख्या में अजगर धूप सेंकते हुए दिख जाते हैं. गांव वाले इन्हें परेशान नहीं करते और न ही इन्होंने कभी गांव वालों को डसा. यहां अजगर और इंसानों के बीच अजीब रिश्ता है. गांव वाले इन अजगरों की सुरक्षा को लेकर बेहद संवेदनशील हैं.

1926 की बाढ़
बताया जाता है कि 1926 में यहां भीषण बाढ़ आयी थी और ये स्थान पोला हो गया था. बस तभी से यहां तरह तरह के जीव जंतु रहने लगे. इन्हीं पोले स्थानों को अजगरों ने भी अपना निवास बना लिया. यह स्थान 2014-2015 के आस -पास वन विभाग के प्रयासों से लोगों की नजर में आया है. कान्हा नेशनल पार्क की तरह धीरे धीरे इस जगह के बारे में ख्याति फैल रही है और पर्यटकों की संख्या बढ़ती जा रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज