यहां बिना डॉक्टरों के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हुआ 'बीमार'

बालाघाट जिले के रामपायली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों की कमी के चलते इलाके की स्वास्थ्य सेवाएं लड़खड़ा गईं हैं.

News18
Updated: October 18, 2015, 10:27 PM IST
यहां बिना डॉक्टरों के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हुआ 'बीमार'
बालाघाट जिले के रामपायली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों की कमी के चलते इलाके की स्वास्थ्य सेवाएं लड़खड़ा गईं हैं.
News18
Updated: October 18, 2015, 10:27 PM IST
बालाघाट जिले के रामपायली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों की कमी के चलते इलाके की स्वास्थ्य सेवाएं लड़खड़ा गईं हैं.

यहां आकस्मिक सुविधाओं के न होने से मरीजों को कई किलोमीटर दूर जिला अस्पताल जाना पड़ता है.

दरसअल, जिले का रामपायली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र 25 उपस्वास्थ्य केंद्रों का मुख्यालय है. इसके बावजूद यहां डॉक्टर, ड्रेसर और आवश्यक संसाधनों की कमी है.

स्वास्थ्य केंद्र में मूलभूत सुविधाओं की कमी को लेकर क्षेत्र के इलाके की ग्राम पंचायतों के सरपंच आंदोलन करने की चेतावनी भी दे चुके हैं.

बताया गया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रामपायली में चार डॉक्टरों के पदस्थापना की स्वीकृति मिली है, लेकिन मौजूदा समय में यहां एक भी डॉक्टर नहीं है.

हैरानी की बात यह है कि इस अस्पताल का संचालन केवल एक आयुष डॉक्टर के भरोसे हो रहा है.

साथ ही यहां एक्स-रे मशीन बंद पड़ी हुई है. वहीं, ईसीजी मशीन भी नहीं है. इसके अलावा ड्रेसर नहीं होने से पट्टी बंधन कक्ष में हमेशा ही ताला लगा हुआ रहता है.
Loading...

जिससे मरीजों को इमरजेंसी में इलाज भी नहीं मिल पाता है. किसी गंभीर समस्या पर मरीजों को वारासिवनी या बालाघाट रेफर कर दिया जाता है.

जिले के स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की मानें तो जिले ही पूरे प्रदेश में डॉक्टरों की कमी बनी हुई है. यही वजह है कि रामपायली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों की कमी है.

हालांकि, डॉक्टरों की कमी से शासन को अवगत करा दिया गया है. जल्द ही पदों की स्वीकृति मिल जाएगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2015, 10:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...