घुरवारा गांव का हर शख्स बना 'दशरथ मांझी', अपने दम पर बना डाली दो किलोमीटर लंबी सड़क

बगैर सरकारी सहायता के श्रमदान करके सड़क बनाने में जुटीं कोको गांव की महिलाएं

बगैर सरकारी सहायता के श्रमदान करके सड़क बनाने में जुटीं कोको गांव की महिलाएं

मंडला जिले के कोको ग्राम पंचायत के घुरवारा गांव के लोगों ने अपने दम पर दो किलोमीटर लंबी सड़क बना डाली. साथ ही इस सड़क को हाईवे से भी जोड़ दिया.

  • Share this:

मंडला. जिले के कोको ग्राम पंचायत के घुरवारा गांव के लोगों की जब प्रशासन (Administration) ने सड़क बनाने की गुहार नहीं सुनी तो सबने मिलकर खुद ही सड़क(Road) बनाने का बीड़ा उठा लिया. ग्रामीणों (villagers) ने अपने बूते सड़क बनाने के लिए कुदाल-फावड़ा उठाया और दो किलोमीटर लंबी (two kilometer) सड़क बना डाली. माउंटेन मैन के नाम से मशहूर बिहार के दशरथ मांझी (Dashrath Manjhi) ने अकेले ही पहाड़ का सीना चीरकर सड़क बना दी थी, जो लोगों के लिए आज भी मिसाल है. मंडला जिले के कोको ग्राम पंचायत के घुरवारा गांव के लोगों की कहानी भी दशरथ मांझी की कहानी से कमतर नहीं है.

जब किसी ने नहीं सुनी गुहार तो महिला-पुरुष सभी ने उठा लिया फावड़ा

घुरवारा गांव तक सड़क बनाने के लिए यहां का हर व्यक्ति 'मांझी' बनने के लिए तैयार हो गया और खुद फावड़ा, तगाड़ी और छेनी उठाकर सड़क बनाने के लिए निकल पड़ा. यह गांव कई वर्षों से सड़क की बाट जोह रहा था. इस सड़क के बनने से लोगों को अब न बारिश की मार झेलनी पड़ेगी और न ही नदी, नाले पार कर कीचड़ में चलना पड़ेगा.



 5 किलोमीटर नहीं अब 1 किलोमीटर चलकर ही पहुंच जाएंगे ग्राम पंचायत 
इसके साथ ही गांव वाले अब 5 किलोमीटर की जगह 1 किलोमीटर चलकर ही अपनी ग्राम पंचायत पहुंच जाएंगे. दरअसल 500 की आबादी वाले घुरवारा के लोगों को सड़क नहीं होने की वजह से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था. गर्मी हो या फिर बरसात गांव तक कोई भी गाड़ी नहीं जाती थी. इस वजह से बीमार और गर्भवती महिलाओं को बहुत परेशानी होती थी.

अपने गांव तक पहुंचने के लिए श्रमदान कर सड़क बनाने में जुटीं महिलाएं

इस गांव में सड़क बनाने के लिए ग्रामीण सरपंच से लेकर कलेक्टर और विधायक से कई बार मिन्नतें कर चुके थे, लेकिन इस ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया था. उसी के बाद गांव वालों ने न सिर्फ श्रमदान कर दो किलोमीटर लंबी सड़क बना डाली बल्कि सड़क को  हाईवे से भी जोड़ दिया. ग्रामीणों के इस काम की जिला कलेक्टर जिला कलेक्टर जगदीश चंद्र जटिया भी तारीफ करते थक नहीं रहे हैं. उन्होंने गांव वालों को इसके लिए बधाई दी है.

ये भी पढ़ें- मध्य प्रदेश की दो महिलाओं समेत पांच मजदूरों की हत्या

बलात्कार मामले में जज ने सुनाई 10 साल की सजा, इधर दोषी ने काट ली खुद की गर्दन

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज