Home /News /madhya-pradesh /

आरटीआई से खुली पोल, छुट्टी के दिन भी टूर बताकर अधिकारी का फर्जीवाड़ा

आरटीआई से खुली पोल, छुट्टी के दिन भी टूर बताकर अधिकारी का फर्जीवाड़ा

जिले की मंडला जनपद पंचायत में लाखों रूपये के डीजल घोटाले का मामला सामने आया है. आरटीआई से हुए इस खुलासे के बाद प्रशासनिक अधिकारियों में हडकंप मच गया है. शिकायतकर्ता के मुताबिक मंडला जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ए.के.सिंह ने शासकीय वाहन मेें निर्माण कार्य की जांच के नाम पर दस्तावेजों मे फर्जी दौरा करना दर्शाया है. पंप संचालकों से सांठगांठ कर डीजल का फर्जी बिल लगाकर लाखों रूपयों का गबन करने आरोप भी लगाया गया है.

जिले की मंडला जनपद पंचायत में लाखों रूपये के डीजल घोटाले का मामला सामने आया है. आरटीआई से हुए इस खुलासे के बाद प्रशासनिक अधिकारियों में हडकंप मच गया है. शिकायतकर्ता के मुताबिक मंडला जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ए.के.सिंह ने शासकीय वाहन मेें निर्माण कार्य की जांच के नाम पर दस्तावेजों मे फर्जी दौरा करना दर्शाया है. पंप संचालकों से सांठगांठ कर डीजल का फर्जी बिल लगाकर लाखों रूपयों का गबन करने आरोप भी लगाया गया है.

जिले की मंडला जनपद पंचायत में लाखों रूपये के डीजल घोटाले का मामला सामने आया है. आरटीआई से हुए इस खुलासे के बाद प्रशासनिक अधिकारियों में हडकंप मच गया है. शिकायतकर्ता के मुताबिक मंडला जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ए.के.सिंह ने शासकीय वाहन मेें निर्माण कार्य की जांच के नाम पर दस्तावेजों मे फर्जी दौरा करना दर्शाया है. पंप संचालकों से सांठगांठ कर डीजल का फर्जी बिल लगाकर लाखों रूपयों का गबन करने आरोप भी लगाया गया है.

अधिक पढ़ें ...
जिले की मंडला जनपद पंचायत में लाखों रूपये के डीजल घोटाले का मामला सामने आया है. आरटीआई से हुए इस खुलासे के बाद प्रशासनिक अधिकारियों में हडकंप मच गया है. शिकायतकर्ता के मुताबिक मंडला जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ए.के.सिंह ने शासकीय वाहन मेें निर्माण कार्य की जांच के नाम पर दस्तावेजों मे फर्जी दौरा करना दर्शाया है. पंप संचालकों से सांठगांठ कर डीजल का फर्जी बिल लगाकर लाखों रूपयों का गबन करने आरोप भी लगाया गया है.

शिकायतकर्ता के पास वो तमाम दस्तावेज हैं जिससे कई चौंका देने वाले खुलासे हुए हैं. इन दस्तावेजों के आधार पर दावा किया गया है फर्जी दौरे के बिल जरिए सरकार के खजाने को लाखों रूपए का चूना लगाया गया है. दस्तावजों से पता चला है कि मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने जिस दिन अपनी मां की तबीयत ठीक नहीं होने का हवाला देकर अवकाश लिया था, उस दिन भी उन्होंने दौरे के बिल लगा दिए.

शिकायतकर्ता की मानें तो अधिकारी ने राष्ट्रीय अवकाशों में, साल के सभी रविवारों तक बाकायदा दौरा करने का कारनामा कर दिखाया है. वही संबंधित अधिकारी शिकायतकर्ता को ब्लैकमैलर बतलाते हुए आरोपों को बेबुनियाद बता रहे हैं.

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर