घटिया निर्माण सामग्री से बना सुशासन भवन, अधिकारी बोले-‘गारंटी में हैं सुधरवा लेंगे’
Mandsaur News in Hindi

घटिया निर्माण सामग्री से बना सुशासन भवन, अधिकारी बोले-‘गारंटी में हैं सुधरवा लेंगे’
मंदौसर स्थित सुसासन भवन

मंदसौर का नया कलेक्टर भवन, जिसे सुशासन भवन नाम दिया गया है का निर्माण 13 करोड़ 71 लाख रुपये की लागत से हुआ था. इस भवन का पिछले साल जुलाई में लोकार्पण किया गया था, लेकिन भवन के निर्माण की पोल अब खुलती दिखाई दे रही है.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के मंदसौर में लगभग 14 करोड़ की लागत से बने नए कलेक्ट्रेट भवन के निर्माण को कुछ ही दिन हुए हैं, लेकिन यह भवन जगह-जगह से उखड़ने लगा है और घटिया निर्माण की पोल खुल गई है. मामले में जिम्मेदारों का कहना है कि अगर निर्माण घटिया हुआ है तो अभी गारंटी में हैं. मामले में कांग्रेस भवन निर्माण में हुए पूरे घोटाले की जांच की मांग की है.

मंदसौर का नया कलेक्टर भवन, जिसे सुशासन भवन नाम दिया गया है का निर्माण 13 करोड़ 71 लाख रुपये की लागत से हुआ था. इस भवन का पिछले साल जुलाई में लोकार्पण किया गया था, लेकिन भवन के निर्माण की पोल अब खुलती दिखाई दे रही है. घटिया निर्माण के कारण जगह-जगह से टाइल उखड़ गई है. कई जगहों पर भवन की छत से पानी भी टपकने लगा है. इस  भवन ने ना रेलिंग सही है और न ही फर्श. जहां कलेक्टर स्वयं बैठते हो वहां अगर घटिया निर्माण हुआ है तो इसका अंदाजा लगाया जा सकता है कि शहर के अन्य निर्माण कार्यों की क्या स्थिति होगी. मामले में जिम्मेदार यह कहकर इतिश्री कर रहे हैं कि यह भवन 5 साल की गारंटी में बना है अगर कहीं निर्माण खराब हुआ है तो उसे सुधार देंगे.

यह भी पढ़ें- BREAKING: फसल बर्बाद होने से परेशान किसान ने की आत्महत्या



इस मामले में कांग्रेस ने भाजपा सहित ठेकेदार व अन्य जिम्मेदार अधिकारियों को आड़े हाथों लिया है. कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष प्रितिपाल सिंह राणा का कहना है कि भाजपा शासनकाल में सिर्फ सुशासन भवन ही नहीं, जितने भी घटिया निर्माण हुए हैं, सबकी जांच होनी चाहिए. वहीं इस मामले में अधिवक्ताओं का कहना है कि कलेक्ट्रेट भवन को जंगल बना दिया गया है, जहां पर ना वकीलों के बैठने की सुविधा है और न ही पक्षकारों के लिए कोई जगह है. इसलिए सुशासन भवन का कोई उपयोग ही नहीं हो रहा है. करोड़ों रुपये की लागत से बने सुशासन भवन की उपयोगिता और गुणवत्ता पर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं.
यह भी पढ़ें-  जीवाजीराव शुगर मिल : जिला प्रशासन पर कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का वाद दर्ज करने के आदेश

यह भी पढ़ें-  अभिषेक मिश्रा मामला: कांगेस आईटी सेल के सदस्य को सुरक्षा देगी एमपी सरकार!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज