लाइव टीवी

शिवराज सिंह चौहान को नहीं मिली मंदसौर कलेक्ट्रेट में धरना देने की परमिशन, भाजपा अब सड़क पर करेगी प्रदर्शन

News18 Madhya Pradesh
Updated: September 20, 2019, 5:56 PM IST
शिवराज सिंह चौहान को नहीं मिली मंदसौर कलेक्ट्रेट में धरना देने की परमिशन, भाजपा अब सड़क पर करेगी प्रदर्शन
मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार और भाजपा के बीच बाढ़ को लेकर भी जारी है सियासत.

बाढ़ पीड़ितों (MP Floods) की सहायता के लिए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) 21 सितंबर को मंदसौर में देंगे धरना. प्रदर्शन की जगह को लेकर स्थानीय प्रशासन से भाजपा (BJP) नेताओं की हुई तकरार.

  • Share this:
मंदसौर. प्रदेश के लोग एक तरफ जहां बाढ़ (MP Floods) जैसी प्राकृतिक आपदा से उबरने की कोशिश में लगे हैं, वहीं दूसरी ओर राजनीतिक दल बाढ़ पीड़ितों की सहायता में भी राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं. ताजा मामला मंदसौर का है, जहां बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए धरना देने को लेकर भाजपा और कांग्रेस में तकरार हो रही है. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) बाढ़ पीड़ितों को सरकारी मदद दिलाने के लिए मंदसौर कलेक्ट्रेट में 21 सितंबर को धरना देने वाले हैं. लेकिन स्थानीय प्रशासन ने उन्हें कलेक्ट्रेट में धरना देने की अनुमति नहीं दी. इसको लेकर विवाद खड़ा हो गया. भाजपा नेताओं का आरोप है कि कमलनाथ (CM Kamalnath) सरकार के दबाव में स्थानीय प्रशासन प्रमुख विपक्षी पार्टी को धरना देने की जगह नहीं दे रहा है. वहीं, मंदसौर प्रशासन ने दलील दी है कि कलेक्ट्रेट में कानूनी वजहों से धरना देने की इजाजत नहीं दी जा सकती है. बहरहाल, भाजपा ने पूर्व निर्धारित जगह न मिलने पर अब कलेक्ट्रेट के बाहर 24 घंटे का धरना देने का फैसला किया है.

दिन में धरना, रात में भजन
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में 21 सितंबर को भाजपा बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए 24 घंटे तक धरना देने वाली है. शिवराज यहां पर दिन में धरना देंगे, जबकि रात में भजन-कीर्तन करेंगे. इसके लिए भाजपा ने मंदसौर कलेक्ट्रेट के पीछे की जगह मांगी थी और पार्टी ने यहां पर तैयारियां भी शुरू कर दी थीं. लेकिन ऐन मौके पर प्रशासन ने यह जगह देने से इनकार कर दिया. भाजपा के स्थानीय विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने आरोप लगाया कि कमलनाथ सरकार, शिवराज सिंह चौहान से डरी हुई है. प्रशासन दबाव में काम कर रहा है, इसलिए शांतिपूर्ण आंदोलन की कोशिशों को भी दबाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार के दबाव में पूर्व सीएम को धरना देने की जगह नहीं दी जा रही है.

Flood Politics: Shivraj Singh Chauhan to sit on dharna on 21st September in Mandasuar
मंदसौर के भाजपा विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने धरना स्थल बदलने को लेकर प्रशासन पर लगाया दबाव में काम करने का आरोप.


मध्य प्रदेश में बाढ़ : बर्बादी की निशानियों के बीच गूंजती आवाज़-इतनी शक्ति हमें दो दयानिधे....

इसलिए नहीं दिया परमिशन
मंदसौर कलेक्ट्रेट के पीछे की जगह धरना के लिए न देने के पीछे कलेक्टर मनोज पुष्पा ने नियमों का हवाला दिया है. कलेक्टर ने कहा कि कलेक्ट्रेट परिसर के अंदर की परमिशन नहीं दी जा सकती, क्योंकि जिसमें कोलाहल अधिनियम सहित कई धाराएं लागू होती हैं. भाजपा शांतिपूर्ण ढंग से अन्य किसी भी जगह आंदोलन कर सकती है. धरना-स्थल बदलने के विरोध में कलेक्ट्रेट पहुंचे भाजपा नेताओं को एडीएम बीएल कोचले ने धारा 144 का हवाला देते हुए किसी और जगह पर धरना देने की सलाह दी. इसके बाद भाजपा ने कलेक्ट्रेट के बाहर धरना देने का निश्चय किया.
Loading...

Flood Politics: Shivraj Singh Chauhan to sit on dharna on 21st September in Mandasuar
नियमों का हवाला देते हुए मंदसौर के एडीएम बीएल कोचले ने कलेक्ट्रेट परिसर में भाजपा को धरना देने की अनुमति नहीं दी.


सीएम कमलनाथ भी आएंगे मंदसौर
मंदसौर में बाढ़ पीड़ितों का हाल जानने पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान पहले भी आ चुके हैं और 21 सितंबर को वे धरना देने वाले हैं. वहीं, सीएम कमलनाथ भी आगामी 23 सितंबर को मंदसौर का दौरा कर बाढ़ पीड़ितों का हाल जानेंगे. मुख्यमंत्री कमलनाथ बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात के बाद प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे, जिसमें वह बाढ़ से हुए नुकसान का जायजा लेंगे. लेकिन दोनों नेताओं के दौरे से पहले धरना-स्थल को लेकर नया विवाद खड़ा हो गया है. आरोप-प्रत्यारोप के बीच एक तरफ सियासत गर्मा रही है, वहीं बाढ़ पीड़ितों को राहत मिलने का सवाल अब भी मुंह बाये खड़ा है.

(नरेंद्र धनोतिया की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें - 

2 जर्जर नावों के भरोसे MP के इन गांव की आबादी, कभी भी हो सकता है हादसा

ज़्यादा पानी आने से डैमेज हुई गांधी सागर की रिंगवॉल और नीमच-मंदसौर में आयी बाढ़

शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार से की बाढ़ पर श्वेत पत्र जारी करने की मांग

आसमान से बरसी आफत ने चौपट कर दी सोयाबीन की फसल, कर्ज़ में डूबे किसान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंदसौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 5:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...