इवीएम की सुरक्षा के लिए कांग्रेस ने तैनात किए गार्ड, कांग्रेस को हार का खतरा- बीजेपी

जिला निर्वाचन अधिकारी ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने कहा कि इवीएम की कड़ी सुरक्षा की गई है. भारत तिब्बत सीमा पुलिस सहित 3 लेयर में सुरक्षा की गई है. इवीएम से किसी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है.

News18 Madhya Pradesh
Updated: December 8, 2018, 4:02 PM IST
इवीएम की सुरक्षा के लिए कांग्रेस ने तैनात किए गार्ड, कांग्रेस को हार का खतरा- बीजेपी
मंदसौर - स्ट्रांग रूम के बाहर इवीएम की सुरक्षा के लिए कांग्रेसी प्रत्याशियों ने नियुक्ति किए निजी गार्ड.
News18 Madhya Pradesh
Updated: December 8, 2018, 4:02 PM IST
इवीएम की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए हर जगह कांग्रेस के प्रत्याशी और उनके समर्थक स्ट्रांग रूम के बाहर पहरेदारी कर रहे हैं. वहीं मंदसौर में कांग्रेस प्रत्याशियों ने इवीएम की निगरानी के लिए
नया तरीका अपनाया है. कांग्रेस के हर प्रत्याशी ने अपनी ओर से एक-एक सुरक्षा गार्ड इवीएम स्ट्रांग रूम के बाहर तैनात कर दिया है. इसको लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर प्रहार करते हुए कहा कि कांग्रेस को इवीएम पर भरोसा नहीं है. वहीं कांग्रेस का कहना है कि पिछले दिनों मध्य प्रदेश में इवीएम को लेकर जो घटनाएं घटी हैं, उसको लेकर कहा जा सकता है कि भाजपा पर बिल्कुल भरोसा नहीं किया जा सकता.

बता दें कि मंदसौर के राजीव गांधी शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में इवीएम और मतगणना स्थल का स्ट्रांग रूम बना हुआ है. स्ट्रांग रूम पर सख्त पहरा है. इसमें भारत तिब्बत सीमा पुलिस सहित मध्य प्रदेश पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसी को मिलाकर 3 लेयर में इवीएम को सुरक्षा प्रदान की गई है. बावजूद इसके स्ट्रांग रूम के बाहर चार अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात हैं. ये मंदसौर जिले की चारों विधानसभा के प्रत्याशियों- मंदसौर से नरेंद्र नाहटा, मल्हारगढ़ से परशुराम सिसोदिया, सुवासरा से हरदीप सिंह डंग और भानपुरा से सुभाष कुमार सोजतिया- के निजी सुरक्षाकर्मी हैं. यहां वे निर्वाचन आयोग से अनुमति लेकर पहरेदारी कर रहे हैं. अलग अलग शिफ्ट में चारों विधानसभा सीट के कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए ये यहां पहरेदारी कर रहे हैं.

इवीएम पर पहरेदारी को लेकर जहां भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेस को इवीएम पर भरोसा नहीं है और उसे अपनी हार का खतरा लग रहा है. इसलिए वह सारा दोष इवीएम पर मढ़ना चाहती है. इसके जवाब में कांग्रेस प्रत्याशी नरेंद्र नाहटा ने कहा कि पिछले दिनों इवीएम को लेकर जो पूरे मध्यप्रदेश में घटनाक्रम हुए हैं, उसको लेकर कहा जा सकता है कि भाजपा पर कतई भरोसा नहीं करना चाहिए.

वहीं इस मामले में जिला निर्वाचन अधिकारी ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने कहा कि इवीएम की कड़ी सुरक्षा की गई है. भारत तिब्बत सीमा पुलिस सहित 3 लेयर में सुरक्षा की गई है. इवीएम से किसी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है. साथ ही स्ट्रांग रूम का सीसीटीवी कैमरे से भी निगरानी की जा रही है.

उन्होंने कहा कि इवीएम की सुरक्षा के लिए निजी गार्ड रखने का कोई प्रावधान नहीं है. अगर किसी ने अनुमति ली होगी तो वे केवल स्ट्रांग रूम के बाहर ही बैठ सकते हैं. इवीएम स्ट्रांग रूम के पास किसी को जाने की अनुमति नहीं है. ऐसे में अब देखना है कि चुनाव परिणाम के दिन इवीएम को लेकर सवाल खड़े होते हैं या लोग इवीएम प्रणाली में अपना विश्वास कायम रखते हैं.

(मंदसौर से नरेंद्र धनोतिया की रिपोर्ट)
Loading...

ये भी पढ़ें - एग्जिट पोल पर बोले शिवराज- मैं जनता की नब्ज़ समझता हूं, BJP ही बनाएगी सरकार

ये भी पढ़ें - सुर्खियों में छाया एग्जिट पोल: मझधार में मध्य प्रदेश, 11 को होगा सच का सामना
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर