जीवाजीराव शुगर मिल : जिला प्रशासन पर कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का वाद दर्ज करने के आदेश
Mandsaur News in Hindi

जीवाजीराव शुगर मिल : जिला प्रशासन पर कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का वाद दर्ज करने के आदेश
जीवाजीराव शुगर मिल के नामांतरण के मामले में जिला प्रशासन पर अवमानना वाद होगा दर्ज

हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद मंदसौर जिला प्रशासन और तहसीलदार दलोदा मुकेश कुमार सोनी ने आंजना कंस्‍ट्रक्‍शन के पक्ष में जीवाजीराव शुगर मिल की जमीन का नामांतरण नहीं किया. इसे हाईकोर्ट ने अवमानना मानते हुए रजिस्ट्रार ऑफ हाईकोर्ट को आदेश दिया कि जिला प्रशासन और तहसीलदार के खिलाफ अवमानना वाद दर्ज करें.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के मंदसौर में जीवाजीराव शुगर मिल की जमीन के नामांतरण का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है. हाईकोर्ट की डबल बेंच ने आंजना कंस्ट्रक्शन की अपील पर मंदसौर जिला प्रशासन समेत तहसीलदार दलौदा मुकेश कुमार सोनी के खिलाफ अवमानना का वाद दर्ज करने के आदेश दिए हैं. गौरतलब हो कि हाईकोर्ट ने जिला प्रशासन को आदेश दिया था कि तीन दिन के भीतर ही जीवाजीराव शुगर मिल की जमीन का नामांतरण कर दिया जाए.

आंजना कंस्ट्रक्शन के वकील महेश कुमार ने बताया कि हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद मंदसौर जिला प्रशासन और तहसीलदार दलोदा मुकेश कुमार सोनी ने न तो हमें कोई मौखिक या लिखित सूचना दी, न ही कंपनी के पक्ष में नामांतरण किया. इसे हाईकोर्ट ने अवमानना मानते हुए रजिस्ट्रार ऑफ हाईकोर्ट को आदेश दिया कि जिला प्रशासन और तहसीलदार के खिलाफ अवमानना वाद दर्ज करें. बता दें कि नामांतरण के मामले में हाईकोर्ट की सिंगल बेंच में पहले से ही अवमानना का वाद पहले से ही चल रहा है.

क्या है पूरा मामला
मध्‍यप्रदेश शासन ने  मंदसौर क्षेत्र की मशहूर जीवाजीराव शुगर मिल (दलौदा शुगर मिल) को कभी यह जमीन लीज पर दी थी. जब तक मिल चलता रहा, तब तक जमीन उसके आधिपत्य में रही. वर्ष 1994 में जीवाजीराव शुगर मिल हमेशा के लिए बंद हो गई. इसके बाद नियमानुसार यह जमीन शासन की हो जानी थी, लेकिन मिल पर सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के करोड़ों रुपए बकाया थे. इसके चलते मिल ने यह जमीन बैंक के पास बंधक रख दी थी.
बैंक ने 5 करोड़ में कर दी नीलाम


अपनी बकाया राशि की वसूली के लिए सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने एक विज्ञप्ति निकाली और यह जमीन नीलाम कर दी. आंजना कंस्ट्रक्शन ने अपने सिंगल टेंडर पर नीलामी में यह जमीन केवल 5 करोड़ में खरीद ली थी. यह कंपनी राजस्‍थान कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और विधायक उदयलाल आंजना की है.

ये भी पढ़ें- जीवाजीराव शुगर मिल जमीन मामला : HC के आदेश के बाद तेज हुई राजनीतिक हलचल

ये भी पढ़े- ग्रामीणों ने SI पर लगाया फर्जी केस दर्ज करने का आरोप, SP ने किया लाइन अटैच

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading