इस मंदिर में चोला चढ़ाने के लिए अभी लगाया नंबर, तो वर्ष 2045 में मिलेगा मौका
Mandsaur News in Hindi

इस मंदिर में चोला चढ़ाने के लिए अभी लगाया नंबर, तो वर्ष 2045 में मिलेगा मौका
इस मंदिर में चोला चढ़ाने के लिए आज लगाया नंबर, तो वर्ष 2045 में मिलेगा मौका

अजय सिंह तोमर ने इस मंदिर में मंगलवार को हनुमानजी को चोला चढ़ाने के लिए 5 फरवरी को रसीद कटाई है. उनका नंबर 29 अगस्‍त 2045 को आएगा. वहीं हंसादेवी ने शनिवार को चोला चढ़ाने के लिए बुकिंग कराई है. उन्‍हें तारीख 7 जनवरी 2040 की तारीख मिली है.

  • Share this:
वैसे तो रामभक्त हनुमान के लाखों मंदिर हैं, लेकिन मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में एक अनूठा मंदिर है, जहां मंगलवार को चोला चढ़ाने के लिए 26 साल का लंबा इंतजार करना पड़ता है. बता दें कि जिले के तलाई वाले बालाजी का मंदिर हनुमानजी का सबसे प्राचीन मंदिर है. मंदिर कितना प्राचीन है, इसके बारे में अलग-अलग मत हैं, लेकिन कहा जाता है कि यह मूर्ति किसी के भी द्वारा स्थापित नहीं की गई है. भगवान हनुमान यहां स्‍वयं ही प्रकट हुए थे. हालांकि इसका कोई प्रमाण मौजूद नहीं है.

पहले खुले चबूतरे पर स्थापित इस मंदिर के किनारे पर तलाई हुआ करती थी, इसी कारण इस मंदिर को तलाई वाले बालाजी मंदिर के नाम से जाना जाने लगा. यहां भक्तों की मुरादें पूरी होने लगीं और मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या भी बढ़ने लगी. अमेरिका के राष्‍ट्रपति चुनाव में बराक ओबामा की जीत के लिए भारतवंशी अमेरिकियों ने भी यहां हवन किया था. बाद में बराक ओबामा राष्ट्रपति बने. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए भी यहां अनुष्ठान हो चुके हैं. यहां आने वाले भक्त बताते हैं कि उनकी हर मनोकामना भगवान पूरी करते हैं.

तलाई वाले बालाजी मंदिर के पुजारी पंडित भूपेंद्र शर्मा का कहना है कि मंदिर में चोला चढ़ाने के लिए लंबी कतारें लगी हैं. इस मंदिर में चोला चढ़ाने के लिए भक्तों को 26 साल का लंबा इंतजार करना पड़ता है. अगर शनिवार को चोला चढ़ाना है तो उसमें भी भक्तों को 20 साल का लंबा इंतजार करना पड़ेगा. मंदिर में चोला चढ़ाने के लिए बाकायदा रसीद काटी जाती है और उसका एक रजिस्टर में हिसाब रखा जाता है.



रजिस्टर में साफ लिखा है कि जिसने आज बुकिंग कराई है, वह वर्ष 2045 में भगवान को चोला चढ़ा सकेगा. बालाजी के भक्‍त अजय सिंह तोमर ने
मंगलवार, 5 फरवरी को चोला चढ़ाने के लिए रसीद कटाई है. उनका नंबर 29 अगस्‍त 2045 को आएगा. वहीं शनिवार को चोला चढ़ाने के लिए भी करीब 21 साल का इंतजार करना पड़ेगा. मंदसौर की हंसादेवी ने भी 5 फरवरी को ही शनिवार के ि‍दिन चोला चढ़ाने के लिए बुकिंग कराई है. उन्‍हें 7 जनवरी 2040 की तारीख मिली है.

 

ये भी पढ़ें:- केवल रेफर सेंटर बनकर रह गया है मंदसौर का जिला अस्‍पताल

ये भी देखें:- VIDEO: कुएं में गिरा लकड़बग्घा, वन विभाग ने किया रेस्क्यू
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading