होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

मंदसौर गैंगरेप: पीड़ित बच्ची की जिद, 'मुझे घर जाना है'

मंदसौर गैंगरेप: पीड़ित बच्ची की जिद, 'मुझे घर जाना है'

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

उन्होंने मीडिया के एक तबके में आयी इन खबरों को खारिज किया कि बच्ची को एक आंख से साफ नहीं दिखायी दे रहा है.

    मध्यप्रदेश के मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता सात वर्षीय स्कूली छात्रा की हालत में अब काफी सुधार है. डॉक्टरों के मुताबिक, 12 दिन से भर्ती बच्ची की शारीरिक सेहत में काफी सुधार हो चुका है और वह मानसिक रूप से भी स्थिर है. वहीं अस्पताल में भर्ती बच्ची ने इंदौर के शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय (एमवायएच) से अपने घर जाने की जिद पकड़ ली है.

    एमवायएच प्रशासन का कहना है कि पीड़ित बच्ची को अस्पताल से छुट्टी देने के बारे में विशेषज्ञ डॉक्टरों की समिति गठित कर उचित फैसला किया जाएगा. बच्ची मंदसौर से करीब 200 किलोमीटर दूर इंदौर के एमवायएच में 27 जून की रात से भर्ती है.

    एमवायएच के अधीक्षक वीएस पाल ने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए बताया, ‘बच्ची बार-बार कह रही है कि उसे अस्पताल से घर जाना है. हम विशेषज्ञ डॉक्टरों की समिति गठित करने के बाद इसकी रिपोर्ट के आधार पर तय करेंगे कि उसे अस्पताल से कब छुट्टी दी जाए.’


    उन्होंने बताया कि इस समिति में मुख्यत: उन डॉक्टरों को शामिल किया जाएगा जो एमवायएच में बच्ची का इलाज कर रहे हैं. पाल के मुताबिक, एमवायएच में पिछले 12 दिन से भर्ती बच्ची की शारीरिक सेहत में काफी सुधार हो चुका है और वह मानसिक रूप से भी स्थिर है. उन्होंने मीडिया के एक तबके में आई इन खबरों को खारिज किया कि बच्ची को एक आंख से साफ नहीं दिखायी दे रहा है.

    एमवायएच अधीक्षक ने कहा, ‘बच्ची की आंख में इस तरह की कोई दिक्कत नहीं है. नेत्र रोग विभाग के डॉक्टर बाकायदा उसका परीक्षण भी कर चुके हैं.’


    बता दें, मंदसौर में बच्ची को 26 जून की शाम कथित तौर पर लड्डू खिलाने का लालच देकर अगवा कर लिया गया था, जब वह स्कूल की छुट्टी के बाद पैदल अपने घर जा रही थी. सामूहिक दुष्कर्म के बाद कक्षा तीन की इस छात्रा को जान से मारने की नीयत से उस पर धारदार हथियार से हमला भी किया गया था. वह 27 जून की सुबह शहर के बस स्टैंड के पास झाड़ियों में लहूलुहान मिली थी. मामले में पुलिस ने इरफान (20) एवं आसिफ (24) को गिरफ्तार किया था.

    (भाषा इनपुट के साथ)

    ये भी पढ़ें-
    सीएम के गृह जिले में बेटी का अपहरण, माता-पिता ने मांगी आत्मदाह की इजाजत!

    नाम में क्‍या रखा है? इन आशा वर्कर्स से पूछिए जो इसी नाम का कंडोम बांटती हैं

    एमपी में फतह हासिल करने के लिए अमित शाह ने बनाया ये खास प्लान

    Tags: Madhya pradesh news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर