MP Board 10th Result 2019: मामी की मौत का सदमा झेल रही साक्षी बनी चौथी टॉपर

मंदसौर की साक्षी ने 10वीं बोर्ड परीक्षा में चौथी रैंक हासिल की है. वक्त कम था, फिर भी उसने खुद को संभाला और 10वीं वोर्ड में 500 अंकों में से 495 अंक हासिल किया.

Narendra Dhanotiya | News18 Madhya Pradesh
Updated: May 17, 2019, 7:01 AM IST
Narendra Dhanotiya
Narendra Dhanotiya | News18 Madhya Pradesh
Updated: May 17, 2019, 7:01 AM IST
गरीबी से जूझ रहे किसान माता-पिता के लिए अपनी बच्ची को पालना और पढ़ाना बहुत मुश्किल था. ऐसे में मामा-मामी ने बच्ची को अपने पास रखने का फैसला किया. मामी ने मां का प्यार और जिंदगी में पढ़-लिखकर आने बढ़ने की सीख दी. 10वीं बोर्ड की परीक्षा नजदीक थी, लेकिन ईश्वर को कुछ और ही मंजूर था. हर वक्त हौसला अफजाई करने वाली उसकी मामी बोर्ड परीक्षा के ठीक तीन महीने पहले उसका साथ छोड़कर चली गईं. वक्त कम था, फिर भी उसने खुद को संभाला और 10वीं वोर्ड में 500 अंकों में से 495 अंक हासिल किया. दरअसल, हम बात कर रहे हैं मंदसौर जिले की साक्षी धाकड़ की, जिसने प्रदेश में चौथा स्थान प्राप्त किया है.

मंदसौर जिले के दलोदा पब्लिक स्कूल की छात्रा साक्षी के पिता बड़वन गांव में रहते हैं. लेकिन, साक्षी बचपन से अपने मामा के घर ‘बनी गांव’ में रहती है. साक्षी मामा के घर रहकर ही पढ़ाई कर रही हैं.



साक्षी की मामी पिछले नवंबर में ही उसे छोड़कर चली गई. साक्षी को आगे बढ़ने के लिए उसकी मामी ही प्रेरणा देती रहती थी. परीक्षा और मामी के चले जाने के बीच मात्र 3 महीने का अंतराल था. अभी साक्षी मामी को खोने के सदमे से निकल नहीं पाई थी कि उसके एग्जाम आ गए. किसी तरह साक्षी ने खुद को संभाला और बोर्ड एग्जाम में बैठी. परिणाम आने पर, उसने 500 में से 495 अंक प्राप्त किया. प्रदेश के मेरिट लिस्ट में साक्षी ने चौथा स्थान प्राप्त किया है. साक्षी की इस सफलता की सूचना मिलते ही घर में खुशी का माहौल छा गया. साक्षी को बधाई दने वालों की भीड़ घर पर जुटने लगी. सभी ने साक्षी को मिठाई खिलाई, माला पहनाई और बधाइयां दी.

कारपेंटर की बेटी ने किया कमाल, 10वीं में हासिल की चौथी रैंक

इस दौरान न्यूज़ 18 की टीम भी साक्षी के मामा के गांव पहुंची. न्यूज़ 18 की टीम ने साक्षी से बात. साक्षी ने इस सफलता का श्रेय अपनी दिवंगत मामी जी को दिया है. वहीं साक्षी आगे चलकर सिविल सर्विसेस में जाकर देश की सेवा करना चाहती हैं.

MP बोर्ड रिजल्ट: चौकीदार पिता का बेटा बना टॉपर, पढ़ें कहानी

साक्षी के पापा एक साधारण किसान हैं. वह कृषि उपज मंडी में अपनी उपज बेचने आए थे. जब न्यूज 18 टीम ने उनको बेटी की उपलब्धि के बारे में बताया तो वे बहुत खुश हुए. वहीं, उन्होंने कहा कि मैं अपनी बेटी को एक डॉक्टर के रूप में देखना चाहता हूं.
Loading...

ये भी पढ़ें-mp board 10th result 2019: 10वीं कक्षा में टॉप 10 लिस्ट में 144 स्टूडेंट्स शामिल
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...