लाइव टीवी

Dussehra 2019 : मध्य प्रदेश में है रावण का ससुराल, यहां होती है दशानन की पूजा

Narendra Dhanotiya | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 8, 2019, 1:38 PM IST
Dussehra 2019 : मध्य प्रदेश में है रावण का ससुराल, यहां होती है दशानन की पूजा
मथुरा जिले में संत अधोक्षजानन्द ने दी चेतावनी - (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नामदेव समाज रावण (Rawan) की पत्नी मंदोदरी को अपनी बेटी मानता है. इस नाते यहां के लोग रावण को अपना जमाई मानते हैं और उसकी पूजा करते हैं. महिलाएं दशानन रावण को जमाई (Son-in-Law) मानकर उससे परदा करती हैं.

  • Share this:
मंदसौर. पूरे देश में आज बुराई के प्रतीक रावण के पुतले दहन किए जा रहे हैं, लेकिन एक जगह ऐसी है जहां रावण (Rawan) का पुतला नहीं जलाया जाता, बल्कि रावण की प्रतिमा की पूजा की जाती है. ऐसा इसलिए क्योंकि यहां रावण को इस गांव का जमाईराजा माना जाता है. कहते हैं कि रावण की पत्नी मंदोदरी इसी गांव की रहने वाली थी.

मंदसौर के खानपुरा गांव में दशहरे पर हाथों में आरती की थाली लिए, ढोल नगाड़े बजाते नाचते-गाते लोग हर साल जुलूस लेकर निकलते हैं. ये लोग दशहरा उत्सव पर भगवान राम की झांकी में रावण का पुतला जलाने नहीं जाते, बल्कि अपने जमाई राजा यानि रावण की पूजा करने निकलते हैं. दुनिया की नज़रों में भले ही रावण बुराई का प्रतीक हो, लेकिन इनकी नज़र में तो वह जमाई बाबू है.



300 साल पुरानी परंपरा

मध्य प्रदेश के मंदसौर ज़िले के खानपुरा गांव में लंकापति रावण की एक विशाल प्रतिमा है. यहां पर रावण की पूजा की जाती है. दशहरे के दिन सुबह से लोग यहां पूजा करने आते हैं और रावण की आरती उतारते हैं. मंदसौर में नामदेव समाज पिछले 300 से ज्यादा वर्षों से दशानन रावण की पूजा करता करता आ रहा है. रावण को पूजने के पीछे एक मान्यता यह भी है कि रावण अहंकारी था तो क्या हुआ वह एक प्रकांड विद्वान भी तो था.



नामदेव समाज की बेटीदरअसल, नामदेव समाज रावण की पत्नी मंदोदरी को अपनी बेटी मानता है. इस नाते वह रावण को अपना जमाई मानते हैं और पूजा करते है. यहां पर महिलाएं दशानन रावण को जमाई मानकर उससे परदा करती हैं. इसलिए वो घूंघट निकाल कर ही रावण की प्रतिमा के सामने से गुजरती हैं.



एक आस्था ये भी
रावण के बारे में एक मान्यता यह भी है कि यहां पर एकातरा बुखार (जो एक दिन छोड़कर आता है) रावण के पैर में रक्षा सूत्र बांधने से ठीक हो जाता है. लोग यहां पर आते हैं और रावण के पैरों में लच्छा जिसे लाल धागा कहते हैं, बांधते हैं.

ये भी पढ़ें-Dussehra 2019 : मध्य प्रदेश के इस गांव में है रावण का मंदिर, दशहरे पर लगता है मेला

              यहां रावण रेनकोट पहने खड़ा है : बारिश हो गयी तो सिर बदलने की भी है व्यवस्था

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंदसौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 8, 2019, 12:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर