श्रावण का तीसरा सोमवार: भोले के रंग के साथ ही राष्ट्रवाद का रंग भी नजर आया
Mandsaur News in Hindi

श्रावण मास के तीसरे सोमवार को आज भगवान पशुपतिनाथ की शाही पालकी शहर भ्रमण पर निकली. पालकी यात्रा में भोले के रंग के साथ ही राष्ट्रवाद का रंग भी नजर आया.

  • Share this:
श्रावण मास के तीसरे सोमवार को आज भगवान पशुपतिनाथ की शाही पालकी शहर भ्रमण पर निकली. पालकी यात्रा में भोले के रंग के साथ ही राष्ट्रवाद का रंग भी नजर आया. 'हर हर शंभू भोलेनाथ' के साथ 'भारत माता की जय' के नारे भी लगे. कश्मीर से Article 370 को हटाने की खुशी पालकी यात्रा में पूरी तरह से नजर आया. इस यात्रा में भगवान भोलेनाथ की झांकी के साथ ही, इसमें राष्ट्रवाद का रंग भी मिल गया. इस दौरान शंख ध्वनि की गई और ढोल नगाड़े बजाए गए. ढोल नगाड़ों की थाप पर युवा नाचते हुए नजर आए.

हर हर महादेव के नारों के साथ भारत माता के जयकारे भी लगे

भगवान भोलेनाथ की इस पालकी यात्रा में लोगों ने बताया कि आज उनमें दुगना उत्साह है.




बता दें कि मंदसौर में श्रावण मास के तीसरे सोमवार को भगवान पशुपतिनाथ की शाही पालकी यात्रा निकाली गई. भगवान पशुपतिनाथ एक पालकी में सवार होकर नगर भ्रमण के लिए निकले. भगवान शिव की बारात में भूत, प्रेत और नासिक के ढोल नगाड़ों के साथ कलश यात्रा निकाली गई. साथ ही कई तरह की आकर्षक झांकियां भी निकाली गई. लेकिन खास बात ये रही कि शाही पालकी यात्रा में भोले शंभू, भोलेनाथ, हर हर महादेव के नारों के साथ ही भारत माता के जयकारे भी लगे. ये नारे कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने की खुशी में लगाए गए. वहीं लद्दाख को अलग से केंद्र शासित प्रदेश बनाने की सरकार की घोषणा का भी असर देखा गया. भगवान भोलेनाथ की इस पालकी यात्रा में लोगों ने बताया कि आज उनमें दुगना उत्साह है.



इस पालकी यात्रा में शामिल सामाजिक कार्यकर्ता नरेश चंदवानी ने कहा कि डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जो सपना था वह सपना आज मोदी जी के नेतृत्व में पूरा हुआ है. इसे लेकर पूरे देश में खुशी का माहौल है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद की बात भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री ने जो की उसे पूरा कर दिखाया है.

ये भी पढ़ें - तीसरे सोमवार को बाबा महाकाल का दिखा नाग चंद्रेश्वर स्वरूप

ये भी पढ़ें - 'पाकिस्‍तान का गुणगान करने वालों का चेहरा बेनकाब'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading