Home /News /madhya-pradesh /

देश का अनोखा मंदिर, जहां न देवता, न पुजारी; लोग चढ़ाते हैं घड़ियां, दिलचस्प है वजह

देश का अनोखा मंदिर, जहां न देवता, न पुजारी; लोग चढ़ाते हैं घड़ियां, दिलचस्प है वजह

एमपी के मंदसौर में एक ऐसा अनोखा मंदिर है जहां भक्त घड़ियां चढ़ाते हैं. कहते हैं यहां यक्ष विराजमान हैं.

एमपी के मंदसौर में एक ऐसा अनोखा मंदिर है जहां भक्त घड़ियां चढ़ाते हैं. कहते हैं यहां यक्ष विराजमान हैं.

Unique Sagas Bavji Temple Mandsaur: मध्य प्रदेश के मंदसौर में सगस बावजी का मंदिर है. इस मंदिर की खास बात ये है कि इस मंदिर में न देवता की मूर्ति है और न ही कोई पुजारी, उसके बावजूद हजारों लोगों की आस्था इस मंदिर से बंधी हुई है. कहा जाता है कि जब समय खराब हो तो यहां आइए और मन्नत मांगिए आपका समय अच्छा हो जाएगा. घड़ी बांधकर मन्नत मांगने पर वह पूरी हो जाती है. यह मंदिर जिले के चिरमोलिया में सड़क किनारे वट वृक्ष के नीचे बना हुआ है. बताया जाता है कि यहां पर यक्ष साकार रूप में दिखाई देते हैं. दावा है कि बावजी ने कई लोगों को साक्षात दर्शन दिए हैं.

अधिक पढ़ें ...

मंदसौर. मध्य प्रदेश के मंदसौर में अनोखा मंदिर है. यहां मन्नत पूरी होने पर घड़ियां चढ़ाने की परंपरा है. कहा जाता है कि ये ऐसा मंदिर है जहां समय खराब आ जाए तो मन्नत लेने से वह ठीक हो जाता है. खास बात यह है कि मंदिर में न भगवान की मूर्ति है, न पुजारी फिर भी यहां हजारों लोगों की श्रद्धा है. यह मंदिर जिले के चिरमोलिया में सड़क किनारे वट वृक्ष के नीचे बना हुआ है.

बता दें, गांव वाले और यहां पर आने वाले श्रद्धालु इसे सगस बावजी का मंदिर कहते हैं. सगस बावजी को शास्त्रों में यक्ष कहा गया है. बताया जाता है कि यहां पर यक्ष साकार रूप में दिखाई देते हैं. दावा है कि बावजी ने कई लोगों को साक्षात दर्शन दिए हैं. यहां तक कि रास्ता भटक गए लोगों को भी साथ ले जाकर रास्ता दिखाते हैं और उन्हें घर तक छोड़ कर आते हैं. कई लोगों ने यहां पर चमत्कार होते देखा है.

एक चबूतरे पर बैठते थे सगव बावजी

इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि अगर आपका समय खराब चल रहा है और आप यहां आकर घड़ी चढ़ाते हैं तो आपका समय ठीक हो जाएगा. हजारों लोग यहां मन्नत मांग चुके हैं और पूरी होने पर घड़ी चढ़ा चुके हैं. ये पूरा इलाका घड़ियों से पटा पड़ा है. हर साल हजारों घड़ियां नदी में बहा दी जाती हैं. वैसे तो यह मंदिर सैकड़ों साल पुराना है. पहले यहां सगस बावजी एक चबूतरे पर बैठते थे. लोगों ने अब यहां एक मंदिर बनवा दिया है.

एक किवदंती ऐसी भी

एक भक्त ने तो मन्नत पूरी होने पर यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए हैंडपंप भी लगा दिया है, ताकि यहां आने वाले लोगों को पानी मिल सके. खास बात यह है कि इस मंदिर में ताला भी नहीं लगता. यहां चढ़ाई गई घड़ियां कोई चुराता नहीं है. किवदंती है कि एक बार किसी व्यक्ति ने 5 घड़ियां चुराईं तो वह अंधा हो गया. उसने लोगों को चोरी की बात बताई. उसने बताया कि अंधा होने के बाद जब उसने वहां दस घड़ियां चढ़ाईं तब जाकर उसे दिखाई देने लगा.

समस्या का हल जल्दी निकालते हैं बाबा

यहां आने वाले श्रद्धालुओं का न सिर्फ समय ठीक हो जाता है, बल्कि यहां आने वाले लोगों की कई प्रकार की मन्नतें भी पूरी होती हैं. कहा जाता है कि निसंतान महिलाओं को यहां संतान प्राप्त होती है. खोई चीज भी यहां मन्नत मांगने से मिल जाती है. यहां मन्नत मांगने से कई प्रकार की परेशानियों से भी छुटकारा मिल जाता है. बताया जाता है कि यक्ष किसी भी समस्या का समाधान तुरंत करते हैं. इसीलिए लोग अपनी समस्या के त्वरित समाधान और बिगड़े समय को अच्छे में बदलने के लिए यहां पर मन्नत मांगने आते हैं और यक्ष भगवान जिन्हें लोग यहां पर सगस बावजी के नाम से जानते हैं लोगों की मनोकामना भी तुरंत पूरी करते हैं.

Tags: Mandsaur news, Mp news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर