अपना शहर चुनें

States

मुरैना के एक गांव में डायरिया से 2 बच्चों की मौत, दर्जनों लोग बीमार

मुरैना के चोकपुरा गांव में हर घर में लोग डायरिया से पीड़ित हैं
मुरैना के चोकपुरा गांव में हर घर में लोग डायरिया से पीड़ित हैं

सबलगढ़ के चोकपुरा गांव के दर्जनों लोग डायरिया से पीड़ित हैं. गांव का शायद ही कोई ऐसा घर हो जहां कोई बीमार ना हो. लोग उल्टी-दस्त से परेशान हैं. गांव वालों का कहना है दूषित पानी पीने के कारण डायरिया फैला है. उल्टी-दस्त के कारण दो दिन में दो बच्चों की मौत हो चुकी है और करीब 50 लोग बीमार हैं.

  • Share this:
मुरैना. मुरैना (morena)ज़िले की सबलगढ़ तहसील के चोकपुरा गांव में डायरिया(diarrhea)फैल गया है. उल्टी-दस्त से दो बच्चों की मौत (2 children died )और दर्जनों लोग बीमार हैं. बीमार लोगों को सबलगढ़ के सरकारी और निजी अस्पतालों (government and private hospital)में भर्ती कराया गया है.डायरिया का कारण दूषित पानी माना जा रहा है.
हर घर में मरीज़
सबलगढ़ के चोकपुरा गांव के दर्जनों लोग डायरिया से पीड़ित हैं. गांव का शायद ही कोई ऐसा घर हो जहां कोई बीमार ना हो. लोग उल्टी-दस्त से परेशान हैं. गांव वालों का कहना है दूषित पानी पीने के कारण डायरिया फैला है. उल्टी-दस्त के कारण दो दिन में दो बच्चों की मौत हो चुकी है और करीब 50 लोग बीमार हैं. कुछ ग्रामीण सबलगढ़ उपस्वास्थ्य केंद्र में भर्ती हैं तो कुछ निजी अस्पताल में अपना इलाज करा रहे हैं. बीमार लोगों में ज़्यादातर बच्चे हैं.
2 बच्चों की मौत
चोकपुरा गांव, चंबल किनारे बसा है. यहां डायरिया के कारण ओमप्रकाश केवट की सात वर्षीय बेटी गुड़िया और कल्ला केवट के दो साल के बेटे अवधेश की मौत हो गई. बीमारी अधिक फैलने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां पहुंची और चैकअप किया. गंभीर मरीज़ों को चिन्हित कर सबलगढ़ अस्पताल में भर्ती कराया गया. मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है.
इनका कहना है
चोकपुरा गांव के ग्रामीणों का कहना है सोमवार से उनके गांव में डायरिया फैला है. पहले गांव के बच्चों को उल्टी-दस्त हुआ और फिर बड़ों की भी तबियत बिगड़ने लगी. अभी कुछ मरीज़ सबलगढ़ अस्पताल में भर्ती हैं तो कुछ निजी अस्पताल में इलाज करा रहे हैं. दो दिन में दो बच्चों की मौत से गांव वाले सदमे में हैं.


इलाके के बीएमओ डॉ माधौप्रसाद गुप्ता ने पुष्टि की है कि चोकपुरा गांव में डायरिया के कारण दो बच्चों की मौत हुई है. स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में गई थी. गंभीर मरीजों को सबलगढ़ अस्पताल में भर्ती कराया गया है. विभाग लगातार हालात पर नज़र बनाए हुए है.

ये भी पढ़ें-बबली कोल गिरोह के बाद अब चित्रकूट की तराई में दस्यु सुंदरी साधना पटेल का ख़ौफ

400 से ज्यादा शिक्षकों को मिला नोटिस, पूछा क्यों बिगड़ा बच्चों का रिजल्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज