अपना शहर चुनें

States

कलेक्टर के छापे के बाद से सीटी स्केन ठप, मरीज हो रहे परेशान

अनुबंध पर लगे सीटी स्केन के बंद होने से मरीज हो रहे परेशान
अनुबंध पर लगे सीटी स्केन के बंद होने से मरीज हो रहे परेशान

सीटी स्केन करने वाले संस्थान ने अस्पताल प्रशासन के साथ मिलकर कलेक्टर के इस आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए सिटी स्केन करना ही बंद कर दिया, जिससे मरीज परेशान हो रहे हैं.

  • Share this:
कुछ दिन पहले मुरैना के कलेक्टर ने निरीक्षण के दौरान जिला अस्पताल में सीटी स्केन कराने वाले मरीजों से अवैध वसूली करते स्टाफ को रंगे हाथों पकड़ लिया  था. उन्होंने  मरीजों के पैसे भी वापस दिलाए थे.  कलेक्टर  भरत यादव ने इस अवैध वसूली रोकने के लिए अस्पताल प्रशासन को सख्त निर्देश दिए थे. लेकिन सीटी स्केन करने वाले संस्थान ने अस्पताल प्रशासन के साथ मिलकर कलेक्टर के इस आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए सीटी स्केन करना ही बंद कर दिया, जिससे अब मरीज परेशान हो रहे हैं.

कंपनी ने इसे टेक्निकल फॉल्ट बताया है. लेकिन ढाई महीने पहले लगी यह मशीन अभी तक जो सुचारू रूप से चालू थी, अचानक कलेक्टर की कार्यवाही के बाद से ही बंद क्यों हो गई, इस पर सवाल उठ रहे हैं.
जिला अस्पताल में बीते 26 फरवरी को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह व स्वास्थ्य मंत्री रुस्तम सिंह ने सीटी स्केन मशीन का उद्धघाटन किया था. यह मशीन सिद्धार्थ एमआरआई-सीटी स्कैन कंपनी ने कॉन्ट्रेक्ट पर जिला अस्पताल लगवाई है.

 
आरोप है कि यहां पर कंपनी के कर्मचारी मरीजों से सरकारी दर से अधिक की अवैध वसूली कर रहे हैं. गरीबी रेखा से नीचे के मरीजों को निःशुल्क व अन्य को 930 रुपये चार्ज तय है. लेकिन यहाँ गरीब हो या सामान्य सभी से 2855 रुपये वसूले जा रहे थे.जब कलेक्टर ने रंगे हाथों पकड़ कार्यवाही की तो कंपनी ने सीटी स्केन ही बंद कर दिया.सीटी स्कैन सेंटर के कर्मचारी सोनू से जब मशीन के बारे में पूछा गया तो उसने कहा कि उसको अवैध वसूली की बात के बारे में कुछ नहीं मालूम है.उसकी आज ही पोस्टिंग हुई है. उसने बताया कि मशीन में फॉल्ट है, इसलिए बंद है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज