होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /आठवीं कक्षा से आगे नहीं पढ़ पातीं मध्य प्रदेश के इस गांव की बेटियां

आठवीं कक्षा से आगे नहीं पढ़ पातीं मध्य प्रदेश के इस गांव की बेटियां

स्कूल में पढ़ रही बच्चियां

स्कूल में पढ़ रही बच्चियां

मिडिल स्कूल होने के कारण गांव की बेटियां 8वीं कक्षा से आगे पढ़ने से वंचित रह जाती है. गांव में हाई एवं हायर सेकेंडरी स् ...अधिक पढ़ें

    मध्य प्रदेश के मुरैना में बेटों की तुलना में बेटियों का लिंगानुपात काफी कम है, लेकिन जिले का काजी बसई गांव इसमें एक अपवाद है. यहां बेटों से बेटियों की संख्या अधिक है और इस गांव की हर बेटी पढ़ी लिखी है. ग्रामीणों के लिए दुख की बात यह है कि इस गांव में हाई स्कूल नहीं है, जिसके कारण बेटियां 8वीं कक्षा तक ही पढ़ पा रही है.

    मिडिल स्कूल होने के कारण गांव की बेटियां 8वीं कक्षा से आगे पढ़ने से वंचित रह जाती है. गांव में हाई एवं हायर सेकेंडरी स्कूल की लंबे समय से मांग कर ग्रामीण कर रह हैं, लेकिन अभी तक यह मांग पूरी नहीं हुई और होनहार बेटियां सिर्फ 8वीं कक्षा तक पढ़कर घर बैठ जाती है.

    मुरैना जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर की दूरी पर बसा काजी बसई गांव जिले की तस्वीर को ही बदल रहा है. यहां बेटियों की संख्या बेटों से ज्यादा है. इस गांव के लोग बेटा व बेटियों में कोई फर्क नहीं समझते, लेकिन दुख की बात यह है कि उनकी बेटियों को प्रारंभिक शिक्षा तो गांव के एकमात्र मिडिल स्कूल से मिल जाती है, लेकिन 8वीं पास करने के बाद इनके पढ़ने के लिए हाई स्कूल नहीं है.

    ग्रामीणों ने इसके लिए लंबे समय से अधिकारियों के चक्कर भी लगाए गए हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. गांव की बेटियों का कहना है कि वे आगे पढ़ना चाहती है, लेकिन गांव में कोई हाई स्कूल नहीं है, जिससे वे 8वीं तक ही पढ़कर रह जाती है. बच्चियों का कहना है कि हाई स्कूल उनके गांव से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जिससे वे आगे चाहकर भी नहीं पढ़ पाती. ग्रामीणों का कहना है कि गांव में लड़कों से ज्यादा लड़कियां है, लेकिन आज के दौर को देखते हुए वे अपनी बेटियों को गांव से बाहर पढ़ने के लिए नहीं भेज सकते.

    स्कूल के शिक्षक नसरुद्दीन ने बताया कि वे शिक्षक होकर स्कूल की बच्चियों का आगे पढ़ाना चाहते हैं, लेकिन आस-पास कोई हाई स्कूल नहीं होने से वे पढ़ने के लिए नहीं जा सकती. हाई स्कूल गांव से 10 किलोमीटर दूर है, जिसमें बच्चियों को खतरा हो सकता है. इसी डर की वजह से बेटियां आगे पढ़ नहीं पातीं.

    यह भी पढ़ें- VIDEO: भ्रूण हत्या के लिए था बदनाम, अब गूंज रही लाड़लियों की किलकारी

    यह भी पढ़ें-  इंदौर: जनसंख्या वृद्धि ज्यादा, लिंगानुपात में कमी

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Government primary schools, Madhya pradesh news, Morena news, Sexual violence

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें